ब्रेकिंग न्यूज़ सीएम ने महाराष्ट्र के समाजसेवी सागर रेड्डी को दिया प्राध्यापक यशवंत केलकर पुरस्कार                ढाई दिन उपमुख्यमंत्री रहने के बाद अजित पवार ने दिया इस्तीफा                 पुडुचेरी। केंद्र जरूरत के हिसाब से हमें राज्य केंद्र शासित प्रदेश कहता है , ट्रांसजेंडर का दर्जा क्यों नहीं देता : नारायणसामी                राजस्थान। जयपुर के मयंक ने 21 साल की उम्र में जज बनने की उपलब्धि की हासिल।                  
दमोह मे दूषित मिठाई बेचने वालों के साथ है क्या खाद्य विभाग ? खाद्य विभाग के निरीक्षक की शिकायत सीएम हेल्प लाइन मे भी दर्ज

दमोह (सूर्यकान्त दिवेदी)

दमोह जिले मे लगता है दूषित खाद्य सामाग्री बेचने वालों को कानून का डर नहीं या फिर जनता के स्वास्थ के साथ खिलवाड़ करने वाले ये मुनाफाखोर व्यापारियो ने खाद्य विभाग के अफसरो की माहवारी तय कर दी है,जिसके चलते खाद्य विभाग का अमला इन मिलवाटखोर व्यापारियो के खिलाफ कोई कठोर कार्यवाही करने मे अपने को नपुंसक समझता है।

गौरतलब है, दिनांक 26 फरवरी को दमोह निवासी सूर्यकांत दिवेदी ने घंटाघर स्थित गुजरात स्वीट से मिठाई खरीदी थी जिससे जब वो घर लेगए जब खाने के लिए परिवार के लोगो ने इसे खोली तो उसमे से सड़ी हुई बदबू आरही थी। जिसकी तुरंत शिकायत खाद्य विभाग के निरीक्षक राकेश आहिरवार को की गई तथा निवेदन किया गया की तुरंत होटल मालिक की दुकान चल कर मिठाई का सैंपल ले और उसकी जांच करवाये।  पर निरीक्षक ने शिकायतकर्ता से आवेदन लेकर रख लिया और ये कहते हुए सैंपल लेने चलने से मना कर दिया कि मे आधिकारी हूँ अपने हिसाब से जांच करने जाऊंगा आप के कहने से नहीं

निरीक्षक के इस बेतुके बयान से लगता है कि दमोह के मिलावट खोर व्यापारियो ने इनकी और न देखने के लिए तगड़ी माहवारी बांधी हुई है। जिसके चलते ये खुले आम जनता के स्वास्थ से खिलवाड़ करने वालों के साथ खड़े हुए है। गुजरात स्वीट की सड़ी मिठाई को लेकर खाद्य विभाग के निरीक्षक दूयारा कोई कार्यवाही नहीं करने पर शिकायत करता ने सी॰ एम॰ हेल्पलाइन पर भी अपनी शिकायत दर्ज कराई है, अब देखना है मुख्य मंत्री कार्यलय दमोह जिले के नकारा अफसरो पर क्या कार्यवाही करता है?

दमोह (सूर्यकान्त दिवेदी)

दमोह जिले मे लगता है दूषित खाद्य सामाग्री बेचने वालों को कानून का डर नहीं या फिर जनता के स्वास्थ के साथ खिलवाड़ करने वाले ये मुनाफाखोर व्यापारियो ने खाद्य विभाग के अफसरो की माहवारी तय कर दी है,जिसके चलते खाद्य विभाग का अमला इन मिलवाटखोर व्यापारियो के खिलाफ कोई कठोर कार्यवाही करने मे अपने को नपुंसक समझता है।

गौरतलब है, दिनांक 26 फरवरी को दमोह निवासी सूर्यकांत दिवेदी ने घंटाघर स्थित गुजरात स्वीट से मिठाई खरीदी थी जिससे जब वो घर लेगए जब खाने के लिए परिवार के लोगो ने इसे खोली तो उसमे से सड़ी हुई बदबू आरही थी। जिसकी तुरंत शिकायत खाद्य विभाग के निरीक्षक राकेश आहिरवार को की गई तथा निवेदन किया गया की तुरंत होटल मालिक की दुकान चल कर मिठाई का सैंपल ले और उसकी जांच करवाये।  पर निरीक्षक ने शिकायतकर्ता से आवेदन लेकर रख लिया और ये कहते हुए सैंपल लेने चलने से मना कर दिया कि मे आधिकारी हूँ अपने हिसाब से जांच करने जाऊंगा आप के कहने से नहीं

निरीक्षक के इस बेतुके बयान से लगता है कि दमोह के मिलावट खोर व्यापारियो ने इनकी और न देखने के लिए तगड़ी माहवारी बांधी हुई है। जिसके चलते ये खुले आम जनता के स्वास्थ से खिलवाड़ करने वालों के साथ खड़े हुए है। गुजरात स्वीट की सड़ी मिठाई को लेकर खाद्य विभाग के निरीक्षक दूयारा कोई कार्यवाही नहीं करने पर शिकायत करता ने सी॰ एम॰ हेल्पलाइन पर भी अपनी शिकायत दर्ज कराई है, अब देखना है मुख्य मंत्री कार्यलय दमोह जिले के नकारा अफसरो पर क्या कार्यवाही करता है?

Advertisment
 
प्रधान संपादक सहायक-संपादक समाचार संपादक
सैफु द्घीन सैफी राकेश शर्मा डॉ मीनू पांडे
Copyright © 2016-17 LOKJUNG.com              Service and private policy              Email : lokjung.saify@gmail.com