ब्रेकिंग न्यूज़ मप्र / हनी ट्रैप: महिलाओं ने विधायक को भी ब्लैकमेल किया, पूर्व सांसद ने परेशान होकर खुदकुशी की कोशिश की थी                नई दिल्ली। मोदी सरकार के खिलाफ सोशल मीडिया से आगे सड़क पर होना : सोनिया गांधी                भोपाल। प्रो॰ अग्रवाल एपीएस विवि रीवा के कुलपति नियुक्त।                भोपाल। कमलनाथ के खिलाफ षड्यंत्र कर रही है भाजपा : पूर्व राज्यपाल कुरैशी।                  
हमीदिया मे कर्मचारियो के अचानक हड़ताल पर जाने मे अस्पताल मे बढ़ी परेशानियाँ.........।

भोपाल।(सुलेखा सिंगोरिया) हमीदिया अस्पताल मे कर्मचारियो को वेतन समय पर न मिलने से सभी कर्मचारियो, वार्ड ब्वॉय, सफाईकर्मी, ओर सुरक्षा गार्ड सोमवार रात 12 बजे से अचानक हड़ताल पर चले गए। हड़ताल के चलते मरीजो के परिजनो को स्ट्रेचर खीचना पड़ा, जिससे सभी को काफी परेशानी उठानी पड़ी। मंगलवार सुबह 9 बजे अस्पताल प्रबन्धक ने सभी कर्मचारियो से बातकर उनको समझाया जिसके बाद कर्मचारियो ने हड़ताल खत्म कर दी। दरअसल, सरकार ने एचएलएल लाइफ केयर लिमिटेड द्वारा अनुबंधित कंपनी युडीएस को हमीदिया और सुल्तानिया की व्यवस्थाओ मे सुधार लाने के लिए ज़िम्मेदारी दी हैं। इसके लिए 142 वार्ड ब्वॉय, 249 सिक्यूरिटी गार्ड, 252 सफाईकर्मी, 49 कंप्यूटर ऑपरेटर, 33 लैब टेक्नीशियनको अस्पताल मे तैनात किया गया हैं। इसके एवज मे सरकार हर महीने हाइटस कंपनी को 1 करोड़ का भुगतान करती हैं।

हड़ताल की मुख्य वजह.... 

कर्मचारियो का आरोप है की कंपनी के अफसर हर महीने यही दिलासा देते है कि आगे से वेतन समय पर मिलेगा लेकिन ऐसा नहीं होता हैं लेट सैलरी मिलने के कारण घर चलाने मे दिक्कत होती हैं, दरअसल, युडीएस के कर्मचारियो को वेतन देने के लिए चिकित्सा शिक्षा विभाग हर साल 12 करोड़ रूपय जीएमसी प्रबन्धक को देता हैं। इसके बाद जीएमसी यहाँ से एचएलएल को रूपय ट्रांसफर किए जाते है। इस बार ट्रांसफर नहीं हुये तो यह स्थिति बन गईं।

हमीदिया अस्पताल, अधीक्षक डॉ एके श्रीवास्तव ने बताया कि फिलहाल कर्मचारियो से बात हो गई है। ओर बजट के बारे मे चिकित्सा शिक्षा विभाग से बात चल रही हैं। बजट आने के बाद कंपनी के खाते से रूपय ट्रांसफर कर दिया जाएगा। कंपनी के परफ़ोर्मेंस खराब होने पर पेनाल्टी लगाई जा रही हैं।

 

Advertisment
 
प्रधान संपादक सहायक-संपादक समाचार संपादक
सैफु द्घीन सैफी राकेश शर्मा डॉ मीनू पांडे
Copyright © 2016-17 LOKJUNG.com              Service and private policy              Email : lokjung.saify@gmail.com