ब्रेकिंग न्यूज़ रायगढ़। 5 वर्षीया बच्ची से दुष्कर्म करने वाले मुंह बोले मामा को 10 साल की सजा                पेरिस। ‘टेम्पररी’ को निकालने में 70 साल लग गए, समझ नहीं आया कि हंसें या रोएं : प्रधानमंत्री मोदी                नई दिल्ली। मोदी को हमेशा बुरा कहना गलत, मुद्दों के आधार पर आकलन करें : कांग्रेस नेता सिंघवी।                मथुरा / जन्माष्टमी का जिम्मा निजी कंपनी को, श्रीकृष्ण का अभिषेक राजस्थानी गाय के दूध-घी से होगा                  
कॉलेज संचालक व असिस्टेंट को बनाया आरोपी...

भोपाल।(सुलेखा सिंगोरिया) सीबीआई और माध्यमिक शिक्षा मण्डल के समकक्ष के मशहूर नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ ओपन स्कूलिंग 10वी एवं 12वी कक्षा की परीक्षाओ मे हुई गड़बड़ी के मामले मे सीबीआई ने चार्जशीट पेश कर दी हैं। सीबीआई ने दिल्ली के ऑस्कर पोलिटेक्निक इंस्टीट्यूट के संचालक आशीष मसीह और एनआईओएस के गुवाहटी सेंटर के जूनियर असिस्टेंट मनोज ज्योति बोरा को सारी गड़बड़ी का दोषी माना गया है। चार्टशीट मे कहा गया है कि दिल्ली के मयूर विहार क्षेत्र मे जहां मसीह का इंस्टीट्यूट हैं, वही कि कैश डिपॉजिट मशीन से मसीह ने मनोज बोरा के खाते मे 4.30 लाख रूपय भेजे थे। मसीह ने आंसरशीट बदलने के लिए यह रूपय भेजे थे। चार्टशीट मे आया है कि ऐसे कई छात्रों को भी पास किया गया है जो परीक्षा मे शामिल भी नहीं हुये हैं। सीबीआई के अनुसार बाकी संदिग्धो से पूछताछ कि जा रही हैं। अप्रैल 2017 मे भी सीबीआई ने परीक्षा मे हुई गड़बड़ी कि एफआईआर दर्ज कि थी। इस मामले मे भोपाल, उमरिया, सीहोर रतलाम के स्टडी सेंटरो सहित देश भर के छह राज्यो के 26 ठिकानो पर सीबीआई ने छापा मारा था। सीबीआई ने अभी अप्रैल 2017 मे हुई परीक्षा के मामले मे ही एफआईआर दर्ज की हैं। लेकिन इस बात के भी प्रमाण मिले है कि यह गड़बड़ी पिछले सालो मे भी हुई हैं।

Advertisment
 
प्रधान संपादक सहायक-संपादक समाचार संपादक
सैफु द्घीन सैफी राकेश शर्मा डॉ मीनू पांडे
Copyright © 2016-17 LOKJUNG.com              Service and private policy              Email : lokjung.saify@gmail.com