ब्रेकिंग न्यूज़ रायगढ़। 5 वर्षीया बच्ची से दुष्कर्म करने वाले मुंह बोले मामा को 10 साल की सजा                पेरिस। ‘टेम्पररी’ को निकालने में 70 साल लग गए, समझ नहीं आया कि हंसें या रोएं : प्रधानमंत्री मोदी                नई दिल्ली। मोदी को हमेशा बुरा कहना गलत, मुद्दों के आधार पर आकलन करें : कांग्रेस नेता सिंघवी।                मथुरा / जन्माष्टमी का जिम्मा निजी कंपनी को, श्रीकृष्ण का अभिषेक राजस्थानी गाय के दूध-घी से होगा                  
पीएम मोदी की बायोपिक : मोदी के व्यक्तित्व को छू भी नहीं आए विवेक ऑबेरॉय ।

पीएम नरेंद्र मोदी ने लोकसभा चुनाव में एक बार फिर एतिहासिक जीत दर्ज की है।  हर तरह मोदी-मोदी की गूंज है इस बीच सिनेमा  के पर्दे पर भी पीएम मोदी की बायोपिक  रिलीज हो गई। ये फिल्म एक ऐसी शख्स‍ियत पर बनी है जिससे  हम बीते कई सालों से देख रहे हैं। जिसका नाम है मोदी। फिल्म की कहानी मोदी के चाय बेचने से लेकर देशसेवा करने तक और फिर प्रधानमंत्री बनने तक के सफर को दिखाती है। फिल्म की कहानी का अंत साल 2014 में नरेंद्र मोदी के पीएम पद की शपथ लेने पर होता है।  फिल्म को देखकर लगता है कि विवेक ओबेरॉय और उनकी टीम ने चंद महीनों का इंतजार किया होता, तो वो साल 2019 की झलक भी फिल्म में दिखा सकते थेफिल्म को डायरेक्टर ओमंग कुमार ने बनाया है। इस फिल्म ये द्वारा विवेक ने कमबैक किया हैं लेकिन विवेक को देखकर ये कहीं से नहीं लगता कि वो पीएम नरेंद्र मोदी की भूमिका में हैं। पीएम जैसा आत्मविश्वास विवेक ओबेरॉय की एक्टिंग में कहीं नजर नहीं आता।  जबकि मोदी के संवाद तरीका बहुत प्रभावी है। इसी कला के जरिए मोदी देश की जनता के दिलो को छूते हैं। लेकिन विवेक ओबेरॉय अपनी फिल्म में मोदी के व्यक्तित्व की इस खासियत को छू भी नहीं पाए हैं

Advertisment
 
प्रधान संपादक सहायक-संपादक समाचार संपादक
सैफु द्घीन सैफी राकेश शर्मा डॉ मीनू पांडे
Copyright © 2016-17 LOKJUNG.com              Service and private policy              Email : lokjung.saify@gmail.com