ब्रेकिंग न्यूज़ बीजेपी में सिंधिया की एंट्री से नाराजगी, पार्टी के बड़े नेता प्रभात झा हुए खफा                निर्भया का दोषी पवन पहुंचा कोर्ट, कहा- मुझे पीटने वाले पुलिसकर्मियों के खिलाफ दर्ज हो केस                महाराष्ट्र। बुलढाणा के सरकारी स्कूल की छात्रा बनी एक दिन कि डीएम।                  
यूनिहोम्स रेसीडेंशियल के धोखाधड़ी का केस अब सीबीआई के हाथों मे।

भोपाल।(सुलेखा सिंगोरिया) कोलार पुलिस ने नवंबर 2017 को बैरागढ़ चीचली मे निर्माणाधीन यूनिहोम्स प्रोजेक्ट मे उपभोकताओ से रूपय लेकर फ्लैट न देने के मामले मे एफआईआर दर्ज कि थी। लेकिन पुलिस को कोई गड़बड़ी नहीं दिखाई दी। इस मामले मे सुमित खनेजा, अमित खनेजा और एसके अरेरा के खिलाफ नामजद एफआईआर दर्ज हैं। हाईकोर्ट के आदेश के बाद सीबीआई ने कोलार पुलिस से केस कि डायरी समेत केस से संबन्धित सारे दस्तावेज़ ले लिए हैं। सीबीआई अधिकारियों ने बताया कि उपभोक्ताओ के बयान लिए जा रहे हैं। मामले से जुड़े उपभोक्ताओ के साथ हुई एग्रीमेंट और बिल्डर को हुए भुगतान के तमाम दस्तावेज़ जुटाए जा रहे हैं। हाईकोर्ट मे पेश किए गए आवेदन के मुताबिक 250 से ज़्यादा उपभोक्ताओ से प्रति उपभोक्ता 21 लाख रूपय लिए गए हैं। इस तरह यह 52.50 करोड़ रूपय से ज़्यादा कि धोखाधड़ी हैं। हलाकि यूनिहोम्स रेसीडेंशियल वेलफ़ेयर एसोसिएशन के पदाधिकारियों का कहना हैं कि प्रोजेक्ट के ज़्यादातर फ्लेट बुक हो चुके है धोखाधड़ी कि यह राशि 100 करोड़ रूपय से भी ज़्यादा हो सकती हैं।  

सीबीआई 3 महीने मे मांगी हाईकोर्ट ने रिपोर्ट...... 

मामले कि जांच सीबीआई से कराए जाने के यूनिहोम्स भोपाल रेसीडेंशियल वेलफ़ेयर सोसायटी के पदाधिकारियों के आग्रह को स्वीकार करते हुए सीबीआई को एफआईआर दर्ज करने के आदेश दिए। हाईकोर्ट ने सीबीआई से जांच रिपोर्ट तीन महीने के भीतर मांगी हैं।

 

Advertisment
 
प्रधान संपादक समाचार संपादक
सैफु द्घीन सैफी डॉ मीनू पाण्ड्य
Copyright © 2016-17 LOKJUNG.com              Service and private policy              Email : lokjung.saify@gmail.com