ब्रेकिंग न्यूज़ इंदौर टी आई भदोरिया सस्पेंड                प्रदेश मे कल से बंद रहेंगी 150 जीनिग फेक्टरी                समाजवादी पार्टी के संरक्षक पूर्व मुख्य मंत्री मुलायम सिंह का दिल्ली मे निधन                भोपाल : निगम की वेबसाइट से गायब हैं महापौर पार्षद                रतलाम : पश्चिम एक्स्प्रेस के फ़र्स्ट एसी कोच की स्प्रिंग टूटी |                भोपाल : पहली बार भोपाल में पुलिस परिवारों के लिए भी गरबा आयोजित                भोपाल : कमलनाथ बोले – शिवराज सरकार झूठ का पुलिंदा हैं                मुरादाबाद : नाबालिग से समूहिक दुष्कर्म, सड़क पर निर्वस्त्र छोड़ा |                नई दिल्ली-- कोमेडियन राजू श्रीवास्तव का लंबी बीमारी के बाद निधन                भोपाल : भोपाल शहर के नए प्रधान आयकर आयुक्त होंगे राजीव वाशर्णेय,अजय अत्री को इंदौर की कमान                भोपाल : इज्तिमा 18 से 21 नवंबर तक पहली बार विदेशी जमात शामिल नहीं होगी                नई दिल्ली : ईरान में महिलाएं हिजाब के खिलाफ सड़क पर हैं                मुंबई : केंद्रीय मंत्री राणे का अवैध निर्माण टूटेगा 10 लाख का जुर्माना लगा                गुना : कांग्रेस नेता ने बेटे को नौकरी दिलाने के नाम पर महिला के साथ ज़्यादती की                जयपुर : राम मंदिर आंदोलन से जुड़े आचार्य धर्मेन्द्र का निधन |                नई दिल्ली : गुजरात के आईपीएस को सुप्रीम कोर्ट से मिली राहत |                मुख्यमंत्री के निर्देश पर झाबुआ के एसपी अरविंद तिवारी सस्पेंड किए गए |                भोपाल, केक काटने को लेकर हुए विवाद में एसआई पर महिला से झूमाझटकी का आरोप                  
छात्रों को छात्रवृत्ति योजना कि जानकारी नहीं इसलिए विदेश मे पढ़ाई करने जाने से वंचित।

भोपाल। (सुलेखा सिंगोरिया)छात्रों को विदेश जाकर अध्ययन करने मे मदद के लिए प्रदेश सरकार ने 2017 मे विदेश अध्ययन छात्रवृत्ति योजना शुरू कि थी। योजना ऐसे स्टूडेंट्स के लिए है, जो विदेश जाकर पीजी या पीएचडी कि पढ़ाई करना चाहते हैं, लेकिन सूबे के कई स्टूडेंट्स को स्नातक एसटीआर पर मिलने वाली इन स्कॉलरशिप के बारे जानकारी ही नहीं हैं। इसी का नतीजा हैं कि मप्र सरकार को बार-बार विज्ञापन निकालने के बाद भी शैक्षिणिक अध्ययन के लिए विदेश जाने वाले स्टूडेंट्स ही नहीं मिल रहे हैं। स्कॉलरशिप के लिए उच्च शिक्षा विभाग कुल 4 विज्ञापन निकाल चुका है।लेकिन स्टूडेंट्स मिले सिर्फ चार।  इस योजना के तहत उच्च शिक्षा विभाग साल मे दो बार विज्ञापन जारी करता है एक बार मे 20 स्टूडेंट्स को स्कॉलरशिप दी जाती हैं यानि एक साल मे 40 बच्चे पढ़ाई के लिए विदेश जा सकते हैं। अधिकारियों का कहना हैं विभाग कि वेबसाइट पर स्कॉलरशिप के बारे मे पूरी जानकारी उपलब्ध हैं। इसके अलावा हर साल जनवरी और जुलाई मे देश के तीन बड़े अखबारों मे विज्ञापन भी प्रकाशित कराते हैं।

स्टूडेंट्स कि कमी का कारण अंग्रेजी - स्कॉलरशिप के लिए कम आवेदन आने कि बड़ी वजह अंग्रेजी हैं। सामान्य वर्ग के बच्चो के लिए शुरू कि इस योजना का ज़्यादातर स्टूडेंट्स को का पता ही नहीं होता हैं।  इस योजना के बारे मे कॉलेजो मे बताया नहीं जाता हैं। परंपरागत पाठयक्रम कि बाध्यता के चलते भी इसके लिए कम आवेदन आ रहे हैं।

Advertisment
 
प्रधान संपादक समाचार संपादक
सैफु द्घीन सैफी डॉ मीनू पाण्ड्य
Copyright © 2016-17 LOKJUNG.com              Service and private policy              Email : lokjung.saify@gmail.com