ब्रेकिंग न्यूज़ नई दिल्ली। प्रधानमंत्री इमरान खान बब्वर शेर है : नवजोत सिंह सिद्धू।                भोपाल। अयोध्या मामले के फैसले के बाद दिग्विजय के टवीट पर बड़ा विवाद।                शाहजहानाबाद। चिन्मयानंद पर यौन शोषण का आरोप लगाने वाली छात्रा को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा गया।                मप्र / राज्य सरकार ने वैट 5% बढ़ाया, भोपाल में आज से पेट्रोल 2.91 रु. और इंदौर में 3.26 रुपए महंगा                इंदौर। मैं किसी श्वेता को नहीं पहचानता, सबके नाम उजागर होने चाहिए : पूर्व गृह मंत्री भूपेंद्र सिंह                  
जनता की जेब से 125 करोड़ का टेक्स वसूलने के बावजूद अपनी ज़िम्मेदारी निभाने मे असफल नगर-निगम भोपाल

भोपाल।(सुलेखा सिंगोरिया) नगर-निगम सफाई व्यवस्था के लिए तीन और पानी सप्लाई के लिए चार अलग-अलग टैक्स वसूलता हैं। इन सबसे के कुल 125 करोड़ रूपय तक कि आय निगम को होती हैं। इसके बावजूद अपनी बेसिक जिम्मेदारिया निभाने मे नाकाम हैं। लोगो को पता ही नहीं होता हैं कि नगर निगम किस तरीके से उनसे चुपचाप टैक्स वसूली करती हैं।

जब हम सम्पत्ति कर जमा करते है तो इसके  साथ ही 6 टैक्स और लिए जाते हैं। संपत्ति कर कि रसीद मे 5 टैक्स का जिक्र होता हैं। ओर 6 वे टैक्स कि रसीद अलग से मिलती हैं। सम्पत्ति कर कि राशि का 20 प्रतिशत समेकित कर होता हैं। समेकित कर के तीन भाग होते हैं। पहला स्वच्छता, दूसरा जल और तीसरा भाग प्रकाश व्यवस्था, यानि समेकित कर मे सफाई और पानी दोनों शामिल हैं इसके अलावा  250 रूपय का एक अनिवार्य समेकित कर भी लिया जाता हैं। यह भी सफाई, पानी और प्रकाश जैसी व्यवस्थाओ का होता हैं। आपके घर से हो रहे डोर-टू-डोर कचरा कलेक्शन का शुल्क लिया जा रहा हैं। इसके बाद पानी का बिल 180 रूपय मासिक अलग से लगता हैं।

 

कमिश्नर, नगर निगम, बी विजय दत्ता.....नगर निगम जितने भी टैक्स ले रहा हैं। सबका उद्देश्य अलग-अलग हैं। वे सब नियमानुसार है। परिषद मे प्रस्ताव पारित करने के बाद ही टैक्स लगाए गए हैं। शासन से अनुमति लेकर एक ही मद मे वसूली पर विचार किया जा सकता हैं।

Advertisment
 
प्रधान संपादक सहायक-संपादक समाचार संपादक
सैफु द्घीन सैफी राकेश शर्मा डॉ मीनू पांडे
Copyright © 2016-17 LOKJUNG.com              Service and private policy              Email : lokjung.saify@gmail.com