ब्रेकिंग न्यूज़ नई दिल्ली। मोदी सरकार के खिलाफ सोशल मीडिया से आगे सड़क पर होना : सोनिया गांधी                भोपाल। प्रो॰ अग्रवाल एपीएस विवि रीवा के कुलपति नियुक्त।                भोपाल। कमलनाथ के खिलाफ षड्यंत्र कर रही है भाजपा : पूर्व राज्यपाल कुरैशी।                विदिशा। मत भरो बिजली के बिल, वे लाइन काटेंगे, हम जोड़ देंगे : शिवराज सिंह चौहान                मध्य प्रदेश / 20 साल पहले सास फर्जी मार्कशीट से शिक्षक बनी थी, बहू की शिकायत पर बर्खास्त                अहमदाबाद। मुझे विश्वास है लोगों की जान बचाने के लिए सभी राज्य केंद्र का एक्ट लागू करेंगे : केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी                नई दिल्ली - जो भारत विरोधी गतिविधियों में लगे हुए हैं, उन्हें इसकी कीमत चुकानी पड़ेगी : केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह                  
तपिश का कारण है, कांक्रीट से ढंके 230 पेड़........

भोपाल।(सुलेखा सिंगोरिया) एमपी नगर जॉन-1 और जॉन-2 मे कुल 736 पेड़, इनमे से 230 कांक्रीट से ढंके हुये हैं। नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल के द्वारा 2003 मे दिए आदेश के कि पेड़ो के एक मीटर के दायरे मे किसी भी तरह का पक्का निर्माण नही किया जाएगा। इसके बावजूद भी सरकार क्यो पेड़ो कि जान लेने पर तुली हुई हैं। वन विहार के पूर्व निर्देशक डॉ॰ सुदेश वाघमारे ने एनालिसिस के दौरान कहा कि- कई बार हम और सोचते है कि ज़रा सी बारिश तूफान मे पेड़ कैसे गिर जाते हैं? इसका जवाब जानना है तो एमपी नगर कि सड़कों पर आइये। क्या आपने कभी सोचा इतना बड़ा पेड़ आखिर सूख कैसे गया? वजह साफ हैं, निर्माण एजेंसिया ने सड़क बनाते समय पेड़ो को सांस लेने के लिए रत्तीभर भी जगह नहीं छोड़ी हैं। कांक्रीट भी ऐसे बिछाया जैसे पेड़ो से उनकी कोई पुरानी दुश्मनी हो। पानी जाने के लिए एक इंच जगह भी नहीं छोड़ी हैं। ऐसे मे पेड़ कैसे सांस लेंगे।  जॉन-1 जॉन-2 मे कुल 736 पेड़, इनमे से 230 कांक्रीट से ढंके हुये हैं। शहरो मे कांक्रीट की सड़कों के बढ़ते दायरे के बीच सरकारी सिस्टम का रवैया हरे भरे पेड़ो के लिए इतना बेपरवाह कैसे हो सकता हैं। हरियाली के लिए पहचाने जाने वाले इस शहर ने हाल ही 46 डिग्री की जानलेवा तपिश झेली हैं। 

Advertisment
 
प्रधान संपादक सहायक-संपादक समाचार संपादक
सैफु द्घीन सैफी राकेश शर्मा डॉ मीनू पांडे
Copyright © 2016-17 LOKJUNG.com              Service and private policy              Email : lokjung.saify@gmail.com