ब्रेकिंग न्यूज़ पुडुचेरी। केंद्र जरूरत के हिसाब से हमें राज्य केंद्र शासित प्रदेश कहता है , ट्रांसजेंडर का दर्जा क्यों नहीं देता : नारायणसामी                राजस्थान। जयपुर के मयंक ने 21 साल की उम्र में जज बनने की उपलब्धि की हासिल।                  
निगम के अफसर अराजक हो गए हैं, मे आगे भी ऐसा ही करूंगा : आकाश विजयवर्गीय।

इंदौर। निगम अफसर के साथ मारपीट के मामले मे चार दिनो से जेल मे बंद आकाश विजयवर्गीय रविवार सुबह 7:21 बजे जेल से रिहा हो कर बाहर आए। आकाश को लेने उनके चचेरे भाई मन्नू, छोटे भाई कल्पेश, विधायक रमेश मेंदोला और एमआई मेंबर चंडू शिंदे पहुंचे। समर्थकों ने हर्ष फायर कर उनका स्वागत किया। 50 मिनट रुकने के बाद वे घर रवाना हो गए। जेल से बाहर आकर मीडिया से बातचीत मे आकाश ने निगम के अफसरो के व्यवहार के प्रति नाराजगी दिखने हुए कहा कि- नगर निगम के अफसर अराजक हो गए हैं। जनता के द्वारा टैक्स के पैसो से ही उन्हे वेतन मिलता हैं। लेकिन फिर भी वह जनता को ही कीड़ा-मकोड़ा समझते हैं। आकाश ने कहा कि मे महिलाओ को ऐसे रोते, जलील होने नहीं देख सकता हूँ। मेरे सामने किसी का घर उजड़ते देख चुप नहीं बैठ सकता। मुझे मेरे किए पर कोई पछतावा नहीं हैं। में आगे भी जनता कि सेवा इसी तरह करूंगा।

Advertisment
 
प्रधान संपादक सहायक-संपादक समाचार संपादक
सैफु द्घीन सैफी राकेश शर्मा डॉ मीनू पांडे
Copyright © 2016-17 LOKJUNG.com              Service and private policy              Email : lokjung.saify@gmail.com