ब्रेकिंग न्यूज़ नई दिल्ली। प्रधानमंत्री इमरान खान बब्वर शेर है : नवजोत सिंह सिद्धू।                भोपाल। अयोध्या मामले के फैसले के बाद दिग्विजय के टवीट पर बड़ा विवाद।                शाहजहानाबाद। चिन्मयानंद पर यौन शोषण का आरोप लगाने वाली छात्रा को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा गया।                मप्र / राज्य सरकार ने वैट 5% बढ़ाया, भोपाल में आज से पेट्रोल 2.91 रु. और इंदौर में 3.26 रुपए महंगा                इंदौर। मैं किसी श्वेता को नहीं पहचानता, सबके नाम उजागर होने चाहिए : पूर्व गृह मंत्री भूपेंद्र सिंह                  
बिजली बिल कही ज़्यादा तो कही कम, शिकायत करके उपभोक्ता हुए परेशान, लेकिन समस्या जस की तस।

भोपाल।(सुलेखा सिंगोरिया) शहर मे 4 लाख 30 हजार बिजली उपभोक्ता हैं। इसमे से करीब 80 हजार को एवरेज बिल दिया जा रहा हैं। आए दिन कलेक्टर की जनसुनवाई मे बिलो की गड़बड़ी के कई मामले पहुंचे रहे हैं। अयोध्या बायपास निवासी बीके ग्रोवर के घर जून माह का एवरेज बिल आया हैं। जबकि उनका परिवार बिजली का इस्तेमाल कर रहा हैं। एवरेज बिल का मतलब है जिनकी रेडिंग नहीं होती उन्हे मिसिंग मे डाल दिया जाता हैं। ऐसे उपभोक्ताओ की एक महीने तो रीडिंग हुई हैं, लेकिन दूसरी महीने नहीं हो पाई तो सॉफ्टवेयर मे उनका एवरेज बिल जनरेट हो जाता हैं। एवरेज मे 12 महीने का बिल बांटकर एक महीने का बिल दे दिया जाता हैं। इसे ही एवरेज़ बिल कहते हैं।   इसके अलावा कुम्हार मोहल्ले निवासी कांता बाई को मई का 3000 रुपए का बिल थमा दिया। एवरेज बिल के नाम पर खपत ज़्यादा दर्शाकर यह बिल थमाया हैं। दरअसल, मध्य क्षेत्र विधुत वितरण कंपनी ने दो साल पहले हैदराबाद की एक निजी एजेंसी को स्पॉट बिलिंग का कम दिया था। उससे पहले एक लोकल एजेंसी के 100 से ज़्यादा कर्मचारी स्पॉट बिलिंग और मीटर रीडिंग कर रहे हैं। बिलो की गड़बड़ी की  एक वजह यह भी है, कर्मचारी बार बार बदलने से रीडिंग दस दिन की देरी से हो रही हैं। वही इन कर्मचारियो को समय पर पेमेंट नहीं मिल रहा, जिसके चलते वे अपने कार्य मे अनियमितता बरत रहे हैं।

Advertisment
 
प्रधान संपादक सहायक-संपादक समाचार संपादक
सैफु द्घीन सैफी राकेश शर्मा डॉ मीनू पांडे
Copyright © 2016-17 LOKJUNG.com              Service and private policy              Email : lokjung.saify@gmail.com