ब्रेकिंग न्यूज़ रायगढ़। 5 वर्षीया बच्ची से दुष्कर्म करने वाले मुंह बोले मामा को 10 साल की सजा                पेरिस। ‘टेम्पररी’ को निकालने में 70 साल लग गए, समझ नहीं आया कि हंसें या रोएं : प्रधानमंत्री मोदी                नई दिल्ली। मोदी को हमेशा बुरा कहना गलत, मुद्दों के आधार पर आकलन करें : कांग्रेस नेता सिंघवी।                मथुरा / जन्माष्टमी का जिम्मा निजी कंपनी को, श्रीकृष्ण का अभिषेक राजस्थानी गाय के दूध-घी से होगा                  
एसआरएस ओर नीति आयोग की रिपोर्ट मे फेल हुआ स्वास्थ्य विभाग, बाल मृत्यु दर मे फिर प्रदेश नंबर एक पर।

भोपाल।(सुलेखा सिंगोरिया) शिशु मृत्यु दर मे मप्र पहले नंबर पर हैं। बीते एक साल के शिशु मृत्यु दर मे एक अंक की भी कमी नहीं हुई हैं। वही नीति आयोग की रिपोर्ट मे संस्थागत प्रसव की संख्या 2 प्रतिशत कम आई हैं संस्थागत प्रसव के आंकड़ो से एनएचएम के अधिकारी भी हैरान हैं। 15 साल मे ऐसा पहली बार हुआ हैं। सैंपल रजिस्ट्रेशन सिस्टम और नीति आयोग की रिपोर्ट मे हर तरीके के फेल साबित होने के बाद राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन अब अपनी योजनाओ और उनके क्रियान्वयत की हकीकत की समीक्षा करने जा रहा हैं। एनएचएम ने 7 जुलाई को इसके लिए बैठक बुलाई हैं। जिसमे स्वास्थ्य विभाग के सभी अधिकारियों के साथ, दिल्ली से आ रही नीति आयोग टीम भी शामिल होगी। जहां स्वास्थ्य संबंध स्थिति को बेहतर बनाने के उयायों पर चर्चा की जाएगी। नीति आयोग की रिपोर्ट मे मप्र को 100 मे से 38.39 अंक मिले हैं। इसी के चलते स्वास्थ्य विभाग भी घबराया हुआ हैं। सरकार द्वारा भी अधिकारियों पर जल्द से जल्द इस स्थिति मे बदलाव का दवाब आ रहा हैं।

Advertisment
 
प्रधान संपादक सहायक-संपादक समाचार संपादक
सैफु द्घीन सैफी राकेश शर्मा डॉ मीनू पांडे
Copyright © 2016-17 LOKJUNG.com              Service and private policy              Email : lokjung.saify@gmail.com