ब्रेकिंग न्यूज़ नई दिल्ली। दीपिका उन लोगों के साथ खड़ी हुईं, जो हर सीआरपीएफ जवान की मौत पर जश्न मनाते हैं : स्मृति ईरानी                जयपुर / पुलिस का दावा- इंडियन ऑयल के मैनेजर ने ही पत्नी और 21 महीने के बेटे की हत्या करवाई,                कोलकाता। मैं अकेले ही सीएए और एनआरसी का विरोध करूंगी, पश्चिम बंगाल में इन्हें लागू नहीं होने दूंगी:ममता बेनर्जी                नई दिल्ली। दुष्कर्मी विनय ने सुप्रीम कोर्ट में क्यूरेटिव पिटीशन दायर की, फांसी पर रोक लगाने की भी मांग की                दिल्ली चुनाव: कांग्रेस बढ़ी तो AAP को टेंशन, घटी तो BJP की वापसी पर लगेगा ग्रहण                  
एसआरएस ओर नीति आयोग की रिपोर्ट मे फेल हुआ स्वास्थ्य विभाग, बाल मृत्यु दर मे फिर प्रदेश नंबर एक पर।

भोपाल।(सुलेखा सिंगोरिया) शिशु मृत्यु दर मे मप्र पहले नंबर पर हैं। बीते एक साल के शिशु मृत्यु दर मे एक अंक की भी कमी नहीं हुई हैं। वही नीति आयोग की रिपोर्ट मे संस्थागत प्रसव की संख्या 2 प्रतिशत कम आई हैं संस्थागत प्रसव के आंकड़ो से एनएचएम के अधिकारी भी हैरान हैं। 15 साल मे ऐसा पहली बार हुआ हैं। सैंपल रजिस्ट्रेशन सिस्टम और नीति आयोग की रिपोर्ट मे हर तरीके के फेल साबित होने के बाद राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन अब अपनी योजनाओ और उनके क्रियान्वयत की हकीकत की समीक्षा करने जा रहा हैं। एनएचएम ने 7 जुलाई को इसके लिए बैठक बुलाई हैं। जिसमे स्वास्थ्य विभाग के सभी अधिकारियों के साथ, दिल्ली से आ रही नीति आयोग टीम भी शामिल होगी। जहां स्वास्थ्य संबंध स्थिति को बेहतर बनाने के उयायों पर चर्चा की जाएगी। नीति आयोग की रिपोर्ट मे मप्र को 100 मे से 38.39 अंक मिले हैं। इसी के चलते स्वास्थ्य विभाग भी घबराया हुआ हैं। सरकार द्वारा भी अधिकारियों पर जल्द से जल्द इस स्थिति मे बदलाव का दवाब आ रहा हैं।

Advertisment
 
प्रधान संपादक सहायक-संपादक समाचार संपादक
सैफु द्घीन सैफी राकेश शर्मा डॉ मीनू पांडे
Copyright © 2016-17 LOKJUNG.com              Service and private policy              Email : lokjung.saify@gmail.com