ब्रेकिंग न्यूज़ नई दिल्ली। मोदी सरकार के खिलाफ सोशल मीडिया से आगे सड़क पर होना : सोनिया गांधी                भोपाल। प्रो॰ अग्रवाल एपीएस विवि रीवा के कुलपति नियुक्त।                भोपाल। कमलनाथ के खिलाफ षड्यंत्र कर रही है भाजपा : पूर्व राज्यपाल कुरैशी।                विदिशा। मत भरो बिजली के बिल, वे लाइन काटेंगे, हम जोड़ देंगे : शिवराज सिंह चौहान                मध्य प्रदेश / 20 साल पहले सास फर्जी मार्कशीट से शिक्षक बनी थी, बहू की शिकायत पर बर्खास्त                अहमदाबाद। मुझे विश्वास है लोगों की जान बचाने के लिए सभी राज्य केंद्र का एक्ट लागू करेंगे : केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी                नई दिल्ली - जो भारत विरोधी गतिविधियों में लगे हुए हैं, उन्हें इसकी कीमत चुकानी पड़ेगी : केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह                  
मुरैना-भिंड की तीन फैक्ट्रियाँ दूध सप्लाई के नाम पर कर रही है जहरीले केमिकल वाले दूध का व्यापार।

ग्वालियर। दूध के नाम पर दिया जा रहा हैं जहरीला केमिकल। 20 दिन पहले मिली शिकायत के बाद एसटीएफ की 20 टीमों ने भिंड-मुरैना मे सिंथेटिक दूध, मावा बनाने वाली तीन अम्बाह में वन खंडेश्वरी डेयरी एंड फैक्ट्री संचालक देवेंद्र गुर्जर, लहार में गिर्राज फूड सप्लायर फैक्ट्री संचालक संतोष सिंह, आईस फैक्ट्री एवं चीलिंग सेंटर लहार फैक्ट्री संचालक राजीव गुप्ता फैक्ट्रियों और इन्हें केमिकल और रॉ मटेरियल सप्लाई करने वाले दो सप्लाई सेंटरों पर एक साथ छापा मारा। इन फैक्ट्रियो से मप्र, राजस्थान, हरियाणा, उप्र और दिल्ली में रोजाना करीब डेढ़ लाख लीटर सिंथेटिक दूध सप्लाई किया जाता है। एसटीएफ की टीम ने यहाँ से बड़ी मात्रा में केमिकल व मिलावटी 14 हजार लीटर से ज्यादा दूध, 100 किलो मावा, 1500 किलो पनीर जब्त किया। और साथ ही 57 लोगो को गिरफ्तार किया।  एसपी एसटीएफ भोपाल राजेश सिंह भदौरिया ने बताया कि पूछताछ में आरोपियों ने दूध बनाने वाले चार बड़े ब्रांड के नाम भी बताए हैं। कंपनियों के क्वॉलिटी कंट्रोल के लोगों से आरोपियों की साठगांठ थी, जिसके चलते वे आसानी से सिंथेटिक दूध सप्लाई कर देते थे। मिलीभगत होने के कारण क्वॉलिटी कंट्रोल वाले सिंथेटिक दूध को हानिकारक नहीं बताते थे। फिर यही दूध आपके और हमारे घरों में पहुंचने वाले दूध में मिला दिया जाता था। यही दूध मे भोपाल में रोज 2.70 लाख लीटर दूध सप्लाई किया जाता हैं। दुग्ध संघ को 2500 सहकारी समितियों के एक लाख किसान दूध सप्लाई करते हैं। मालीबायां, बैतूल, मुलताई समेत 28 चीलिंग सेंटरों से टैंकरों के जरिए 3.70 लाख लीटर दूध पहुंचता है। भोपाल के 14 जिलो मे 2.70 लाख लीटर दूध सप्लाई होता हैं।

शमीमुद्दीन, सीईओ, भोपाल दुग्ध संघ- शिकायत मिली थी कि नरसिंहगढ़ क्षेत्र से केमिकल वाला दूध पहुंच रहा है। टीम भेजकर जांच कराई गई, लेकिन वहां ऐसा कुछ नहीं मिला। हमारी क्वालिटी कंट्रोल के लोगो से कोई मिलीभगत नहीं है। दूध की क्वालिटी की जांच के लिए विशेष टीम भी बनाई गई है। 

Advertisment
 
प्रधान संपादक सहायक-संपादक समाचार संपादक
सैफु द्घीन सैफी राकेश शर्मा डॉ मीनू पांडे
Copyright © 2016-17 LOKJUNG.com              Service and private policy              Email : lokjung.saify@gmail.com