ब्रेकिंग न्यूज़ मप्र / राज्य सरकार ने वैट 5% बढ़ाया, भोपाल में आज से पेट्रोल 2.91 रु. और इंदौर में 3.26 रुपए महंगा                इंदौर। मैं किसी श्वेता को नहीं पहचानता, सबके नाम उजागर होने चाहिए : पूर्व गृह मंत्री भूपेंद्र सिंह                भोपाल। हनी ट्रेप महिलाओ ने किए कई बड़े खुलासे, पुलिस पर बना दवाब।                पुलवामा जैसी घटना ही महाराष्ट्र के लोगो का मूड बदल सकती हैं : शरद पवार।                महाराष्ट्र। हमें शिवसेना को डिप्टी सीएम का पद देने में कोई दिक्कत नहीं : मुख्यमंत्री फडणवीस।                  
परिजन मोबाइल पर अब कही से भी बच्चो के स्कूल वाहन पर नजर रख सकेंगे।

भोपाल(सुलेखा सिंगोरिया) बच्चो की सुरक्षा के लिए बनाए गए नियम के चलते अब एक्सेस पैरेंटस भी स्कूल के लिए गए बच्चो की लाइव लोकेशन मोबाइल मे देख सकेंगे। इसके लिए परिवहन विभाग ने इसका एक्सेस अब स्टूडेंस, उनके परिजनो और शैक्षणिक संस्थानों को देना अनिवार्य कर दिया है। इस एक्सेस को देने की जिम्मेदारी वाहन संचालक की होगी। इस संबंध में ट्रांसपोर्ट कमिश्नर डॉ. शैलेंद्र श्रीवास्तव ने निर्देश जारी कर दिए है। अब 15 साल पुराने वाहन शैक्षणिक संस्थानों में नहीं चल पाएंगे। बस के अंदर और बाहर हेल्प लाइन नंबर-100 लिखना भी जरूरी है। वहीं सभी शैक्षणिक संस्थानों में अब ट्रांसपोर्ट मैनेजर की नियुक्ति अनिवार्य की गई है।  इसके अलावा भी बच्चों की सुरक्षा को देखते हुए सुप्रीम कोर्ट की गाइडलाइन का पूर्ण रूप से पालन कराने के निर्देश दिए गए हैं। 

 

ट्रांसपोर्ट कमिश्नर, डॉ॰ शैलेंद्र श्रीवास्तव- बच्चो की सुरक्षा अधिक ज़रूरी हैं इसके लिए सुप्रीम कोर्ट की गाइडलाइन का पालन करवाने के प्रयास किए जा रहे हैं। व्हीटीडी का एक्सेस बच्चो और अभिभावकों को देना अनिवार्य कर दिया गया हैं। इसे परिजन मोबाइल पर अब कही से भी बच्चो के स्कूल वाहन पर नजर रख सकेंगे।

Advertisment
 
प्रधान संपादक सहायक-संपादक समाचार संपादक
सैफु द्घीन सैफी राकेश शर्मा डॉ मीनू पांडे
Copyright © 2016-17 LOKJUNG.com              Service and private policy              Email : lokjung.saify@gmail.com