ब्रेकिंग न्यूज़ नई दिल्ली। मोदी सरकार के खिलाफ सोशल मीडिया से आगे सड़क पर होना : सोनिया गांधी                भोपाल। प्रो॰ अग्रवाल एपीएस विवि रीवा के कुलपति नियुक्त।                भोपाल। कमलनाथ के खिलाफ षड्यंत्र कर रही है भाजपा : पूर्व राज्यपाल कुरैशी।                विदिशा। मत भरो बिजली के बिल, वे लाइन काटेंगे, हम जोड़ देंगे : शिवराज सिंह चौहान                मध्य प्रदेश / 20 साल पहले सास फर्जी मार्कशीट से शिक्षक बनी थी, बहू की शिकायत पर बर्खास्त                अहमदाबाद। मुझे विश्वास है लोगों की जान बचाने के लिए सभी राज्य केंद्र का एक्ट लागू करेंगे : केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी                नई दिल्ली - जो भारत विरोधी गतिविधियों में लगे हुए हैं, उन्हें इसकी कीमत चुकानी पड़ेगी : केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह                  
हाईकोर्ट ने सुनाया ऋषिराज-दीक्षा के हित मे फैसला।

भोपाल। इलाहाबाद के व्यवसायी पवन अग्रवाल की बेटी दीक्षा ने 5 जुलाई 2019 को ऋतुराज से हिन्दू रीति-रिवाज से शादी की थी। दोनों ने 6 जुलाई को नगर निगम में विवाह का पंजीयन भी कराया था। शादी के बाद दीक्षा और ऋषिराज ने दीक्षा के परिवार से खुद को बचाने के लिए पुलिस ने एफआईआर कराया था लेकिन कुछ नहीं हुआ। इसके बाद दोनों ने हाईकोर्ट की शरण ली।  ऑनर किलिंग की आशंका के चलते ए सेक्टर राजहर्ष कॉलोनी, कोलार रोड निवासी ऋतुराज द्वारा दायर याचिका पर हाईकोर्ट ने भोपाल पुलिस को प्रेमी जोड़े को सुरक्षा प्रदान करने के निर्देश दिए हैं। जस्टिस विशाल धगट की एकलपीठ ने यह भी कहा कि मप्र पुलिस की अनुमति बिना यूपी पुलिस इलाहाबाद में दर्ज अपहरण के मामले में दीक्षा-ऋतुराज से पूछताछ नहीं कर सकती। कोर्ट ने यह भी निर्देश दिए कि दीक्षा की इच्छा के बिना उनके परिवार के सदस्य उससे नहीं मिल सकते। दरअसल, इलाहाबाद के पूर्व उप महापौर मुरारीलाल अग्रवाल की पोती दीक्षा अग्रवाल और भोपाल के ऋतुराज सिंह राजपूत ने घर से भागकर लव मैरिज की।  दीक्षा के परिवार को जानकारी मिलने पर 7 जुलाई को दीक्षा के दादा मुरारीलाल, पिता, बुआ, फूफा अन्य लोगों के साथ ऋतुराज के घर पहुंचे थे। उन्होंने परिवार वालों से बदसलूकी की। ऋतुराज के पिता ने कोलार थाने में शिकायत की, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं की गई। दीक्षा के पिता ने 14 जुलाई को प्रयागराज (इलाहाबाद) के सिविल लाइन थाने में ऋतुराज, उनके पिता और मां के खिलाफ अपहरण समेत अन्य धाराओं में एफआईआर कराई थी। आरोप लगाया था कि दीक्षा के नाम करोड़ों की संपत्ति पर ऋतुराज की नजर थी, इसलिए अपहरण किया गया। दीक्षा घर से 30 लाख का सोना और दो लाख रुपए नगद लेकर गई है।

Advertisment
 
प्रधान संपादक सहायक-संपादक समाचार संपादक
सैफु द्घीन सैफी राकेश शर्मा डॉ मीनू पांडे
Copyright © 2016-17 LOKJUNG.com              Service and private policy              Email : lokjung.saify@gmail.com