ब्रेकिंग न्यूज़ रायगढ़। 5 वर्षीया बच्ची से दुष्कर्म करने वाले मुंह बोले मामा को 10 साल की सजा                पेरिस। ‘टेम्पररी’ को निकालने में 70 साल लग गए, समझ नहीं आया कि हंसें या रोएं : प्रधानमंत्री मोदी                नई दिल्ली। मोदी को हमेशा बुरा कहना गलत, मुद्दों के आधार पर आकलन करें : कांग्रेस नेता सिंघवी।                मथुरा / जन्माष्टमी का जिम्मा निजी कंपनी को, श्रीकृष्ण का अभिषेक राजस्थानी गाय के दूध-घी से होगा                  
विधुत कंपनियो के घाटे का खामियाजा उपभोक्ताओ के सिर।

भोपाल। बिजली उपभोक्ताओ को अब सितंबर से नई दरो पर बिल चुकाने होंगे। बिजली कंपनियो के द्वारा बताए घाटे को देखते हुए विधुत विभाग ने बिजली दरो मे बढ़ोतरी कर दी हैं। खास बात यह हैं कि मध्य, पश्चिम और पूर्व तीनों विधुत कंपनिया मिलकर जिस घाटे की भर पाई नहीं कर पा रही हैं। उसका खामियाजा अब उपभोक्ताओ को भरना पड़ेगा। प्रदेश कि तीनों बिजली कंपनियों ने जब विधुत नियामक आयोग के सामने 38 हजार 163 करोड़ रु के राजस्व का दावा प्रस्तुत किया था। कंपनियो कि आय 34 हजार 65 करोड़ थी। इस तरह से खर्चो को पाटने के लिए 4098 करोड़ कि ज़रूरत बताई गई थी। एक प्रकार से यह नुकसान था। जिसे कंपनियों ने आयोग को बताकर दरे बढ़ाने कि मांग की थी।  

शिवराज मे बिजली को लेकर कॉंग्रेस पर निशाना साधा- बिजली टैरिफ मे बढ़ोतरी को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सरकार पर निशाना साधा हैं। उन्होने कहा कि पहले किसानो कि झूठी कर्जमारी और अब ये “बत्ती गुल-मीटर चालू” योजना। अपने वादो से मुकरना एक सच्चे कोंग्रेसी की निशानी हैं।

Advertisment
 
प्रधान संपादक सहायक-संपादक समाचार संपादक
सैफु द्घीन सैफी राकेश शर्मा डॉ मीनू पांडे
Copyright © 2016-17 LOKJUNG.com              Service and private policy              Email : lokjung.saify@gmail.com