ब्रेकिंग न्यूज़ रायगढ़। 5 वर्षीया बच्ची से दुष्कर्म करने वाले मुंह बोले मामा को 10 साल की सजा                पेरिस। ‘टेम्पररी’ को निकालने में 70 साल लग गए, समझ नहीं आया कि हंसें या रोएं : प्रधानमंत्री मोदी                नई दिल्ली। मोदी को हमेशा बुरा कहना गलत, मुद्दों के आधार पर आकलन करें : कांग्रेस नेता सिंघवी।                मथुरा / जन्माष्टमी का जिम्मा निजी कंपनी को, श्रीकृष्ण का अभिषेक राजस्थानी गाय के दूध-घी से होगा                  
गुमठी व्यापारियो के आक्रोश के चलते निगम अमले अपना काम छोड़कर भागे।

भोपाल। नगर निगम द्वारा गुमठिया हटाये जाने के बाद गुमठी व्यापारियो मे अभी भी आक्रोश बना हुआ हैं। जून और जुलाई मे निगम द्वारा एमपी नगर से करीबन 500 गुमठिया हटाई गई थी। उस समय यह तय हुआ था कि गुमठी हटाने से खाली हुई जगहो पर या तो पार्किंग स्थल बनाया जाएगा या फिर छोटे-छोटे पार्क बताए जाएंगे। इसकी शुरुआत विजय स्तम्भ के सामने से की गई। या कुछ पौधे-रोपण किए गए हैं। इसकी सुरक्षा के लिए रविवार को फेंसिंग का काम शुरू हुआ, थोड़ी ही देर मे गुमठी व्यापारी पहुंचे और विवाद करना शुरू कर दिया, इसके बाद निगम अमले को न केवल काम रोकना पड़ा। बल्कि उनके द्वारा की गई फेंसिंग को भी गुमठी व्यापारियो ने उखाड़ फेका। उसका कहना हैं की जब तक विस्थापन को लेकर अंतिम निर्णय नही हो जाता, तब तक वे यहाँ फेंसिंग नहीं होने देंगे। वही दूसरी तरफ, रहवासियो और व्यापारियो के विरोध के बाद भी रेलवे पटरी के किनारे लगी 51 गुमठिया आज भी नहीं हटी हैं। राहत की बात यह हैं कि अभी इनमे व्यवसाय शुरू नहीं हुआ हैं।

कमल सोलंकी,अपर आयुक्त,नगर निगम- एमपी नगर मे खाली जमीन पर पार्किंग और पार्क डेवलप करने के लिये काम शुरू किया था। लेकिन गुमठी व्यवसायियो की मांग पर इसे रोका गया हैं एक सप्ताह के भीतर उनके विस्थापन का मामला सुलझ जाएगा और हम जल्द ही यहाँ काम शूरु करेंगे।   

Advertisment
 
प्रधान संपादक सहायक-संपादक समाचार संपादक
सैफु द्घीन सैफी राकेश शर्मा डॉ मीनू पांडे
Copyright © 2016-17 LOKJUNG.com              Service and private policy              Email : lokjung.saify@gmail.com