ब्रेकिंग न्यूज़ नई दिल्ली। प्रधानमंत्री इमरान खान बब्वर शेर है : नवजोत सिंह सिद्धू।                भोपाल। अयोध्या मामले के फैसले के बाद दिग्विजय के टवीट पर बड़ा विवाद।                शाहजहानाबाद। चिन्मयानंद पर यौन शोषण का आरोप लगाने वाली छात्रा को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा गया।                मप्र / राज्य सरकार ने वैट 5% बढ़ाया, भोपाल में आज से पेट्रोल 2.91 रु. और इंदौर में 3.26 रुपए महंगा                इंदौर। मैं किसी श्वेता को नहीं पहचानता, सबके नाम उजागर होने चाहिए : पूर्व गृह मंत्री भूपेंद्र सिंह                  
नगरीय निकायो के चुनाव टले, कार्यकाल खत्म होने पर कमान प्रशासक के हाथ।

भोपाल। इस साल नवंबर-दिसंबर में होने वाले नगरीय निकाय चुनाव अब अगले साल फरवरी-मार्च 2020 में चुनाव हो सकते हैं।दरअसल, प्रदेश के 16 नगर निगम, 98 नगर पालिका और 272 नगर परिषद का चुनाव टलना तय हो गया है।  नगरीय विकास एवं आवास विभाग द्वारा घोषित कार्यक्रम के अनुसार वार्डों के परिसीमन का अंतिम प्रकाशन 15 नवंबर तक होगा। सरकार परिसीमन की प्रक्रिया और चुनाव के बीच की निर्धारित अवधि को छह से घटाकर दो महीने करने का संशोधन लाने पर विचार कर रही है। यदि यह संशोधन लागू हो गया तो 15 जनवरी के बाद चुनाव का रास्ता तो साफ हो जाएगा, लेकिन महापौर व अध्यक्ष के आरक्षण के लिए 15 फरवरी तक का समय दिया गया है इसलिए उसके बाद ही चुनाव होंगे। यदि संशोधन नहीं आया तो चुनाव 15 मई के बाद होंगे। प्रदेश के 297 नगरीय निकायों में इस वर्ष दिसंबर में चुनाव होने थे, लेकिन परिसीमन नहीं होने से यह संभव नहीं है। इनमें से आठ नगरीय निकायों की परिषद का कार्यकाल समाप्त हो चुका है। वहां प्रशासक बैठा दिए हैं। मप्र के नगरीय विकास एवं आवास विभाग के उपसचिव राजीव निगम के अनुसार शहरों की सीमा विस्तार व वार्ड परिसीमन की प्रक्रिया ही आगामी 30 जनवरी तक चलेगी। महापौर व अध्यक्ष पद के लिये आरक्षण की तारीख 20 फरवरी 2020 निर्धारित कह गई है और इसके बाद ही चुनाव कार्यक्रम घोषित होंगे। ऐसे में कई नगर निगम व नगर पालिका जहां मौजूद परिषद का कार्यकाल पूरा होने वाला है वहां अगले कुछ माह के लिये प्रशासक बैठाये जा सकते हैं।

बता दे कि प्रदेश भर में 16 नगर निगम, 98 पालिका और 294 नगर परिषद हैं। इनमें से 297 का कार्यकाल 15 जनवरी 2020 तक समाप्त हो जाएगा। चुनाव टलने की स्थिति में निकायों की कमान प्रशासक को सौंपी जा सकती है।

Advertisment
 
प्रधान संपादक सहायक-संपादक समाचार संपादक
सैफु द्घीन सैफी राकेश शर्मा डॉ मीनू पांडे
Copyright © 2016-17 LOKJUNG.com              Service and private policy              Email : lokjung.saify@gmail.com