ब्रेकिंग न्यूज़ नई दिल्ली। मोदी सरकार के खिलाफ सोशल मीडिया से आगे सड़क पर होना : सोनिया गांधी                भोपाल। प्रो॰ अग्रवाल एपीएस विवि रीवा के कुलपति नियुक्त।                भोपाल। कमलनाथ के खिलाफ षड्यंत्र कर रही है भाजपा : पूर्व राज्यपाल कुरैशी।                विदिशा। मत भरो बिजली के बिल, वे लाइन काटेंगे, हम जोड़ देंगे : शिवराज सिंह चौहान                मध्य प्रदेश / 20 साल पहले सास फर्जी मार्कशीट से शिक्षक बनी थी, बहू की शिकायत पर बर्खास्त                अहमदाबाद। मुझे विश्वास है लोगों की जान बचाने के लिए सभी राज्य केंद्र का एक्ट लागू करेंगे : केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी                नई दिल्ली - जो भारत विरोधी गतिविधियों में लगे हुए हैं, उन्हें इसकी कीमत चुकानी पड़ेगी : केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह                  
इस बार पवित्रता के लिए मिट्टी से बने विघ्नहर्ता की ही स्थापित करें।

भोपाल। कुछ ही दिनो मे सुखकर्ता गणेश का आगमन होने वाला हैं। सभी विघ्नहर्ता  गणेश की स्थापना करेंगे, लेकिन इस बार बाजार के प्लास्टर ऑफ पेरिस (पीओपी) से बनी मूर्तियों की स्थापना की जगह मिट्टी से बने गणेश को घर मे विराजमान करे। कोई भी नया काम शुरू करने से पहले हम सबसे पहले प्रथम पूज्य श्रीगणेश का ही स्मरण करते हैं। गणेशोत्सव में पूजा की पवित्रता बरकरार रहे, इसलिए मिट्टी की गणेश प्रतिमाओं की ही स्थापना की जानी चाहिए। पं. प्रहलाद पंड्या के अनुसार मिट्टी में पृथ्वी, आकाश, अग्नि, जल व वायु तत्व का समावेश होता है, इसलिए मिट्टी के गणेश की पूजा करना ही शास्त्र सम्मत है। पं. भंवरलाल शर्मा कहते हैं कि जिस तरह पार्थिव शिवलिंग बनाए जाते हैं, उसी तरह पार्थिव गणेश की पूजा करना ही श्रेष्ठ है। सिर्फ माटी के गणेश की पूजा ही फलदायी है। ज्योतिषी अंजना गुप्ता के मुताबिक पीओपी से बनी प्रतिमाएं अशुद्ध होती हैं, जो पूजा के लिए उचित नहीं हैं। जिस तरह पूजा में एल्युमीनियम, चमड़ा व कई अन्य वस्तुओं का उपयोग करना वर्जित है, ठीक उसी तरह पीओपी को भी अशुद्ध माना जाता है। 

Advertisment
 
प्रधान संपादक सहायक-संपादक समाचार संपादक
सैफु द्घीन सैफी राकेश शर्मा डॉ मीनू पांडे
Copyright © 2016-17 LOKJUNG.com              Service and private policy              Email : lokjung.saify@gmail.com