ब्रेकिंग न्यूज़ मप्र / राज्य सरकार ने वैट 5% बढ़ाया, भोपाल में आज से पेट्रोल 2.91 रु. और इंदौर में 3.26 रुपए महंगा                इंदौर। मैं किसी श्वेता को नहीं पहचानता, सबके नाम उजागर होने चाहिए : पूर्व गृह मंत्री भूपेंद्र सिंह                भोपाल। हनी ट्रेप महिलाओ ने किए कई बड़े खुलासे, पुलिस पर बना दवाब।                पुलवामा जैसी घटना ही महाराष्ट्र के लोगो का मूड बदल सकती हैं : शरद पवार।                महाराष्ट्र। हमें शिवसेना को डिप्टी सीएम का पद देने में कोई दिक्कत नहीं : मुख्यमंत्री फडणवीस।                  
अंधविश्वास से भरे पत्र के भ्रम मे आई डीएफओ प्रियांशी राठौर।


भोपाल। जिला वनमंडलाधिकारी (डीएफओ) कार्यालय से दो दिन पहले जिले के सभी एसडीओ और रेंजरो को जारी किया गया अंधविश्वास भरा पत्र चर्चा का विषय बन गया है। इस मैसेज में लिखा था कि साईबाबा का यह संदेश फारवर्ड करने पर प्रमोशन मिलता है और जो नहीं भेजता, उसका सब कुछ बर्बाद हो जाता है। बाद में गलती का अहसास होने पर डीएफओ प्रियांशी राठौर ने उसे निरस्त कर दिया। 

डीएफओ में 22 अगस्त को एक बंद लिफाफे में कागज आया। इस पर लिखा था कि ये मैसेज सबको जरूर भेजना। एक औरत ने बीमारी की हालत में सपना देखा कि साई बाबा उसे पानी पिला रहे हैं। सुबह वह ठीक हो चुकी थी। एक ऑफिसर ने इस एसएमएस को लोगों तक भेजा तो उसे प्रमोशन मिल गया। यह कागज डीएफओ प्रियांशी राठौर के पास पहुंचा। उन्होंने इस पर रिसीविंग हस्ताक्षर भी कर दिए। हस्ताक्षर होते ही कार्यालय के लिपिक बालकृष्ण पांडे ने पत्र पर वनमंडलाधिकारी की सील लगा कर इसे जिले के सभी एसडीओ और रेंजरों सहित विभाग के संबंधित लोगों को जारी कर दिया। संबंधित अधिकारियों के पास पत्र पहुंचा तो उन्हें अचंभा हुआ। किसी ने डीएफओ राठौर से चर्चा की, तब उन्हें अपनी गलती का अहसास हुआ। उन्होंने 27 अगस्त को एक पत्र जारी कर संबंधित मैसेज को निरस्त मानने की बात लिखी। 

Advertisment
 
प्रधान संपादक सहायक-संपादक समाचार संपादक
सैफु द्घीन सैफी राकेश शर्मा डॉ मीनू पांडे
Copyright © 2016-17 LOKJUNG.com              Service and private policy              Email : lokjung.saify@gmail.com