ब्रेकिंग न्यूज़ नई दिल्ली। मोदी सरकार के खिलाफ सोशल मीडिया से आगे सड़क पर होना : सोनिया गांधी                भोपाल। प्रो॰ अग्रवाल एपीएस विवि रीवा के कुलपति नियुक्त।                भोपाल। कमलनाथ के खिलाफ षड्यंत्र कर रही है भाजपा : पूर्व राज्यपाल कुरैशी।                विदिशा। मत भरो बिजली के बिल, वे लाइन काटेंगे, हम जोड़ देंगे : शिवराज सिंह चौहान                मध्य प्रदेश / 20 साल पहले सास फर्जी मार्कशीट से शिक्षक बनी थी, बहू की शिकायत पर बर्खास्त                अहमदाबाद। मुझे विश्वास है लोगों की जान बचाने के लिए सभी राज्य केंद्र का एक्ट लागू करेंगे : केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी                नई दिल्ली - जो भारत विरोधी गतिविधियों में लगे हुए हैं, उन्हें इसकी कीमत चुकानी पड़ेगी : केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह                  
पशुपतिनाथ मंदिर के भंडारे मे ....श्रद्धालुओ को मिल सके पेट भर भोजन इसके लिए आधार कार्ड लागू।

मंदसौर। मंदसौर स्थित चर्चित पशुपतिनाथ मंदिर में भंडारे के लिए आधार कार्ड अनिवार्य कर दिया गया है। ऐसा करने वाला यह देश का पहला मंदिर है। प्रशासन ने ऐसा स्थानीय लोगों को भंडारे से दूर रखने के लिए किया गया है। दरअसल, मंदिर की प्रबंध समिति ने कलेक्टर मनोज पुष्प के आदेश पर बाहर से आने वाले श्रद्धालुओं के लिए इसी महीने एक अगस्त से नियमित भंडारे की व्यवस्था की थी। 1500 साल पुरानी अष्टमुखी प्रतिमा के दर्शन के लिए सामान्य दिनों में रोजाना देशभर से औसतन 300 से 500 लोग पहुंचते हैं। पूरे सावन महीने में 1 लाख से अधिक श्रद्धालु यहां आते हैं। मंदिर समिति के प्रबंधक राहुल रुनवाल कहते हैं कि भंडारे में 300 लोगों के लिए बना भोजन रोज डेढ़ घंटे में ही खत्म होने लगा। लेकिन बाहर से आए श्रद्धालुओं को इसका फायदा नहीं मिल पा रहा था। मंदिर समिति ने पड़ताल की तो पता चला कि आसपास के स्थानीय लोग ही भोजन चट कर जाते हैं। कुछ लोगों ने तो अपने घरों में खाना ही बनाना बंद कर दिया है। इसके बाद मंदिर प्रशासन ने आधार लागू करने का फैसला लिया। यह व्यवस्था लागू होने के बाद मंदिर में भोजन करने वाले लोगों की संख्या आधी रह गई है। कलेक्टर मनोज पुष्प ने बताया कि फ्री भोजन व्यवस्था बाहरी श्रद्धालुओं के लिए है। इसका लाभ स्थानीय लोग लेने लगे थे। इससे व्यवस्था बिगड़ रही थी। अगर किसी के पास आधार नहीं है तो वो अपने साथी का आधार भी दिखा सकता है। मंदिर समिति रोजाना 300 लोगों का खाना बनाती है। इस पर 9 हजार रुपए का खर्च आता है। यानी महीने में 2 लाख 70 हजार रुपए खर्च हो रहे थे। नई व्यवस्था से भंडारे में आने वाले श्रद्धालुओं की संख्या आधी रह गई है। इससे यह खर्च 1 लाख 80 हजार रुपए में सिमट गया। साथ ही बाहरी श्रद्धालुओं को लाभ भी मिल रहा है।

Advertisment
 
प्रधान संपादक सहायक-संपादक समाचार संपादक
सैफु द्घीन सैफी राकेश शर्मा डॉ मीनू पांडे
Copyright © 2016-17 LOKJUNG.com              Service and private policy              Email : lokjung.saify@gmail.com