ब्रेकिंग न्यूज़ मप्र / राज्य सरकार ने वैट 5% बढ़ाया, भोपाल में आज से पेट्रोल 2.91 रु. और इंदौर में 3.26 रुपए महंगा                इंदौर। मैं किसी श्वेता को नहीं पहचानता, सबके नाम उजागर होने चाहिए : पूर्व गृह मंत्री भूपेंद्र सिंह                भोपाल। हनी ट्रेप महिलाओ ने किए कई बड़े खुलासे, पुलिस पर बना दवाब।                पुलवामा जैसी घटना ही महाराष्ट्र के लोगो का मूड बदल सकती हैं : शरद पवार।                महाराष्ट्र। हमें शिवसेना को डिप्टी सीएम का पद देने में कोई दिक्कत नहीं : मुख्यमंत्री फडणवीस।                  
इंदौर आई हॉस्पिटल......... डायरेक्टर डॉ. सुधीर महाशब्दे और मेडिकल सुप्रिंटेंडेंट डॉ. सुहास बांडे के खिलाफ केस दर्ज।

इंदौर। प्रशासन और सीएमएचओ डॉ. प्रवीण जड़िया को काफी मशक्कत के बाद इंदौर आई हॉस्पिटल में मोतियाबिंद के ऑपरेशन के बाद मरीजों की आंखों की रोशनी जाने के मामले में आखिरकार छत्रीपुरा पुलिस ने हॉस्पिटल के मेडिकल डायरेक्टर डॉ. सुधीर महाशब्दे और मेडिकल सुप्रिंटेंडेंट डॉ. सुहास बांडे के खिलाफ केस दर्ज कर लिया हैं। दोनों के खिलाफ धारा 336, 337 और 338 के साथ 34 लगाई गई है। धारा 336 में अधिकतम तीन माह की सजा व ढाई सौ रुपए अर्थदंड, धारा 337 में अधिकतम छह माह की सजा व 500 रुपए अर्थदंड और 338 में अधिकतम दो साल की सजा व एक हजार रुपए का अर्थदंड लगता है। धारा 34 अपराध में एक से अधिक लोगों के होने पर लगती है। यह सभी धाराएं जमानती हैं, दरअसल, पुलिस दस्तावेजों में कमी बताकर केस दर्ज नहीं कर रही थी। लेकिन प्रशासन और सीएमएचओ डॉ. जड़िया की लगातार मामले की जांच के लिए जुटे रहने के चलते यह मुमकिन हुआ। सीएमएचओ ने बुधवार और गुरुवार को थाने में करीब सात घंटे बिताए। इसके बाद अपर कलेक्टर कैलाश वानखेड़े ने पुलिस अफसरों को फोन किए, तब गुरुवार शाम चार बजे एफआईआर दर्ज हो सकी। 

मोतियाबिंद ऑपरेशन के दौरान 15 मरीजों को संक्रमण हुआ था जिनमें से 5 की आंखों की रोशनी चली गई थी।

Advertisment
 
प्रधान संपादक सहायक-संपादक समाचार संपादक
सैफु द्घीन सैफी राकेश शर्मा डॉ मीनू पांडे
Copyright © 2016-17 LOKJUNG.com              Service and private policy              Email : lokjung.saify@gmail.com