ब्रेकिंग न्यूज़ नई दिल्ली। मोदी सरकार के खिलाफ सोशल मीडिया से आगे सड़क पर होना : सोनिया गांधी                भोपाल। प्रो॰ अग्रवाल एपीएस विवि रीवा के कुलपति नियुक्त।                भोपाल। कमलनाथ के खिलाफ षड्यंत्र कर रही है भाजपा : पूर्व राज्यपाल कुरैशी।                विदिशा। मत भरो बिजली के बिल, वे लाइन काटेंगे, हम जोड़ देंगे : शिवराज सिंह चौहान                मध्य प्रदेश / 20 साल पहले सास फर्जी मार्कशीट से शिक्षक बनी थी, बहू की शिकायत पर बर्खास्त                अहमदाबाद। मुझे विश्वास है लोगों की जान बचाने के लिए सभी राज्य केंद्र का एक्ट लागू करेंगे : केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी                नई दिल्ली - जो भारत विरोधी गतिविधियों में लगे हुए हैं, उन्हें इसकी कीमत चुकानी पड़ेगी : केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह                  
जस्टिस राकेश की भ्रष्टाचार के खिलाफ जांच के आदेश पर, एपी शाही कि अध्यक्षता मे 11 जजो ने बनाई बेंच।

पटना पटना हाईकोर्ट के सीनियर जज जस्टिस राकेश कुमार के न्यायपालिका मे भ्रष्टाचार के मामले को उठाकर उसकी जांच करने के आदेश देते हुई, बुधवार को इस आदेश कि कॉपी सीजेआई, सीबीआई पीएमओ को भेजी। एक फैसले से उठे तूफान के चलते गुरुवार को एपी शाही कि अध्यक्षता मे 11 जजों की फुल बेंच बनाई। इसके बाद हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस एपी शाही ने जस्टिस राकेश कुमार की सिंगल बेंच की सभी केसों की सुनवाई पर रोक लगा दी। अगले आदेश तक जस्टिस कुमार सिंगल बेंच केसों की सुनवाई नहीं कर सकेंगे। हालांकि, डबल बेंच के जिन केसों में वे शामिल हैं, उसकी सुनवाई कर सकेंगे। चीफ जस्टिस ने उन्हें नोटिस भी जारी किया है।  जस्टिस कुमार बुधवार को पूर्व आईएएस अधिकारी केपी रमैया के मामले की सुनवाई कर रहे थे। इसी दौरान अपने आदेश में सख्त टिप्पणियां करते हुए उन्होंने लिखा- पटना के जिस एडीजे के खिलाफ भ्रष्टाचार का मामला साबित हुआ, उन्हें बर्खास्त करने की बजाय मामूली सजा दी गई, क्यों? हाईकोर्ट के तत्कालीन चीफ जस्टिस और अन्य जजों ने भ्रष्टाचार के खिलाफ मेरे विरोध को दरकिनार किया।  

जस्टिस कुमार ने निचली अदालत में हुए स्टिंग ऑपरेशन मामले का स्वत: संज्ञान लेते हुए इसकी जांच सीबीआई को सौंप दी। जस्टिस राकेश कुमार ने रमैया की अग्रिम जमानत की अर्जी खारिज की थी। उन्होंने आश्चर्य जताया कि हाईकोर्ट से अग्रिम जमानत की अर्जी खारिज होने और सुप्रीम कोर्ट से भी राहत नहीं मिलने के बावजूद वे खुलेआम घूमते रहे। इतना ही नहीं वे निचली अदालत से नियमित जमानत लेने में भी कामयाब रहे। उन्होंने इस पूरे प्रकरण की जांच करने का निर्देश पटना के जिला एवं सत्र न्यायाधीश को दिया है। जस्टिस कुमार ने अपने आदेश में कहा कि जब हाईकोर्ट ने रमैया की अग्रिम जमानत खारिज कर दी, उन्हें सुप्रीम कोर्ट से भी राहत नहीं मिली, तो उन्हें निचली अदालत से बेल कैसे मिल गई...? 

Advertisment
 
प्रधान संपादक सहायक-संपादक समाचार संपादक
सैफु द्घीन सैफी राकेश शर्मा डॉ मीनू पांडे
Copyright © 2016-17 LOKJUNG.com              Service and private policy              Email : lokjung.saify@gmail.com