ब्रेकिंग न्यूज़ नई दिल्ली। प्रधानमंत्री इमरान खान बब्वर शेर है : नवजोत सिंह सिद्धू।                भोपाल। अयोध्या मामले के फैसले के बाद दिग्विजय के टवीट पर बड़ा विवाद।                शाहजहानाबाद। चिन्मयानंद पर यौन शोषण का आरोप लगाने वाली छात्रा को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा गया।                मप्र / राज्य सरकार ने वैट 5% बढ़ाया, भोपाल में आज से पेट्रोल 2.91 रु. और इंदौर में 3.26 रुपए महंगा                इंदौर। मैं किसी श्वेता को नहीं पहचानता, सबके नाम उजागर होने चाहिए : पूर्व गृह मंत्री भूपेंद्र सिंह                  
ब्रिज के निर्माण मे अफ़सरो की लापरवाही हुई उजागर ।



भोपाल। अफ़सरो की ब्रिज बनाने की जल्दबाजी के चलते ब्रिज से गुजरने वाले आम-आदमी की जान खतरे मे। विधानसभा चुनाव से पहले सिंगारचोली आरओबी पर और अन्य ब्रिज पर लोकसभा चुनाव से पहले ट्रैफिक चालू करने की जल्दबाजी में इंस्पेक्शन और टेस्टिंग में लापरवाही बरती गई। लालघाटी चौराहे से मुबारकपुर जोड़ तक करीब 221 करोड़ रुपए से बन रहे आठ किमी लंबे नेशनल हाईवे के निर्माण में अफसरो की मनमानी हुई उजागर। इस प्रोजेक्ट की डेडलाइन तो दिसंबर 2019 थी। लेकिन उसके पहले ट्रैफिक चालू करने की हड़बड़ी में क्वालिटी पर ध्यान नहीं दिया। यही नहीं बल्कि जमीन अधिग्रहण और पाइपलाइन शिफ्टिंग जैसे जरूरी काम पूरे किए बिना ही कंस्ट्रक्शन चालू कर दिया गया। ब्रिज को बनाते समय अफसरो की लापरवाहियो की गिनती करना मुश्किल हैं यहाँ एक नहीं कई गलतिया हैं। जो धीरे-धीरे सामने आ रही हैं। आरओबी के साथ ग्रेड सेपरेटर और सर्विस लेन आदि के कंस्ट्रक्शन के साथ यहां ऐसा ड्रेनेज नेटवर्क बनाया जाना चाहिए था कि पानी ब्रिज और सड़क पर ठहरने की बजाय बरसाती नाले में बह जाए। इस पर पूरी प्रोजेक्ट लागत का लगभग दस फीसदी यानी 21 करोड़ रुपए खर्च होना थे। लेकिन कंपनी ने इसका पूरा ध्यान नहीं रखा। बारिश में ब्रिज के ऊपर पानी ठहर रहा है और जो पानी नीचे आ रहा है वह सड़क से बहता हुआ कॉलोनियों में जा रहा है। जिसके चलते सर्विस रोड और कॉलोनियों के भीतर की सड़कें खराब हो रहीं हैं। प्रोजेक्ट में सबसे पहले लालघाटी पर ग्रेड सेपरेटर का निर्माण शुरू हुआ था। लेकिन आज भी इसके पिलर खड़े हुए हैं। ग्रेड सेपरेटर की जमीन पर कुछ पटाखे की दुकानें हैं और एक बिजली सब स्टेशन है। इनकी शिफ्टिंग नहीं हो सकी है। इसके अलावा एक धार्मिक स्थल भी इसके रास्ते में आ रहा है। अब तक यह मामला नहीं सुलझ सका है।

Advertisment
 
प्रधान संपादक सहायक-संपादक समाचार संपादक
सैफु द्घीन सैफी राकेश शर्मा डॉ मीनू पांडे
Copyright © 2016-17 LOKJUNG.com              Service and private policy              Email : lokjung.saify@gmail.com