ब्रेकिंग न्यूज़ भोपाल, टेस्ट ऑफ इंडिया रेस्टोरेंट में खाद्यय विभाग का छापा मावे का नमूना दूषित पाया गया                इंदौर पूर्व लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन की तबियत में सुधार                मुबई ग्लोबल मार्केट में तेजी के कारण बढ सकते हे खाद्द्य तेलों के दाम                भोपाल सिपाही रितेश यादव ने दर्द से परेशां होकर की ख़ुदकुशी                भोपाल संकट समय केन्द्रिये मंत्री से युवक ने आक्सीजन मांगी मंत्री पटेल ने कहा दो खाओगे                भोपाल पुलिस दुआरा मनमर्जी से बैरिगेट्स लगाने को लेकर जनता में गुस्सा                भोपाल दस दिनों में करोना से दस शिक्षकों की मौत,आयुक्त ने जानकारी बुलवाई                भोपाल खाना बनाते समय महिला आग से झुलसी                भोपाल डॉ ने सफाईकर्मी महिला को मारा थप्पड़ कर्मचारी गए हड़ताल पर                बीजेपी में सिंधिया की एंट्री से नाराजगी, पार्टी के बड़े नेता प्रभात झा हुए खफा                निर्भया का दोषी पवन पहुंचा कोर्ट, कहा- मुझे पीटने वाले पुलिसकर्मियों के खिलाफ दर्ज हो केस                  
दंपति सावधान.......... अब बच्चो को भी तीसरी सवारी मानकर चालान समेत लाइसेन्स सस्पेंड हो सकता हैं।

भोपाल। 1 सितंबर से लागू हुए नए संशोधित मोटर वाहन कानून में बाइक पर दो से ज्यादा सवारी ओवरलोड मानी जाती हैं। जिसके चलते अगर बाइक सवार दंपती गोद मे बच्चे को लेकर चल रहे हैं, तो वे सावधान हो जाए क्योकि ट्रैफिक पुलिस बच्चे को भी तीसरी सवारी मानकर ट्रिपल राइडिंग का चालान काट सकती है। इसमें बच्चो के लिए छूट का कहीं कोई उल्लेख नहीं है।  हालांकि पुराने मोटर वाहन कानून में भी बच्चे को तीसरी सवारी माना जाता था। लेकिन अब जुर्माने और सख्ती से लोगो को सावधान हो जाना चाहिए। मंत्रालय ने इस समस्या का समाधान करने का आश्वासन दिया है लेकिन समय सीमा तय नहीं की है। मोटर वाहन एक्ट में बाइक टू सीटर है। भले ही निर्माता कंपनी ने बाइक को 200 से 300 किग्रा वजन के अनुसार डिजाइन किया हो और इस पर दो से अधिक सवारी बैठ सकती हो, लेकिन इसे ओवर लोड ही माना जाएगा। दिल्ली ट्रैफिक पुलिस के संयुक्त आयुक्त कन्नन जगदीशन ने बताया कि नए कानून में दोपहिया पर शिशु या बच्चों के लिए कोई गाइडलाइन नहीं है। ऐसे में उसे तीसरी सवारी ही माना जाएगा। देशभर में कुल वाहनों में से दो तिहाई दोपहिया हैं। सूत्रो के अनुसार नया मोटर वाहन कानून लागू होने से पहले भी बच्चा तीसरी सवारी माना जाता था। लेकिन कोई गाइडलाइन नहीं थी। कई संगठनों ने इस बारे में गाइडलाइन जारी करने की मांग की है। अब लोगो को ज्यादा जुर्माने के साथ ही लाइसेंस सस्पेंड होने का डर है। मंत्रालय के एक अधिकारी का कहना है कि अभी तक आईएसआई मार्का हेलमेट पहनने का सिर्फ सुझाव दिया जाता है, लेकिन गुणवत्ता का कोई नियम नहीं है। लोगों की सुरक्षा को देखते हुए अब इसके मानक भी तय किए जाएंगे।

Advertisment
 
प्रधान संपादक समाचार संपादक
सैफु द्घीन सैफी डॉ मीनू पाण्ड्य
Copyright © 2016-17 LOKJUNG.com              Service and private policy              Email : lokjung.saify@gmail.com