ब्रेकिंग न्यूज़ भोपाल, टेस्ट ऑफ इंडिया रेस्टोरेंट में खाद्यय विभाग का छापा मावे का नमूना दूषित पाया गया                इंदौर पूर्व लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन की तबियत में सुधार                मुबई ग्लोबल मार्केट में तेजी के कारण बढ सकते हे खाद्द्य तेलों के दाम                भोपाल सिपाही रितेश यादव ने दर्द से परेशां होकर की ख़ुदकुशी                भोपाल संकट समय केन्द्रिये मंत्री से युवक ने आक्सीजन मांगी मंत्री पटेल ने कहा दो खाओगे                भोपाल पुलिस दुआरा मनमर्जी से बैरिगेट्स लगाने को लेकर जनता में गुस्सा                भोपाल दस दिनों में करोना से दस शिक्षकों की मौत,आयुक्त ने जानकारी बुलवाई                भोपाल खाना बनाते समय महिला आग से झुलसी                भोपाल डॉ ने सफाईकर्मी महिला को मारा थप्पड़ कर्मचारी गए हड़ताल पर                बीजेपी में सिंधिया की एंट्री से नाराजगी, पार्टी के बड़े नेता प्रभात झा हुए खफा                निर्भया का दोषी पवन पहुंचा कोर्ट, कहा- मुझे पीटने वाले पुलिसकर्मियों के खिलाफ दर्ज हो केस                  
एडीजी की पद को लेकर आईपीएस और आईएएस अफ़सरो के बीच टकराव।

भोपाल। प्रमोशन को लेकर गुरुवार को हुई कैबिनेट बैठक मे आईपीएस और आईएएस अधिकारियों के बीच चल रही टकराहट दिखाई दी। प्रमोशन के लिए एडीजी के चार पदों के साथ एडीजी के कुल 15 पदों को अस्थाई मंजूरी देने का मामला आया तो मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव अशोक वर्णवाल और अपर मुख्य सचिव अनुराग जैन ने कह दिया कि ‘जैसे-जैसे पद रिक्त होते हैं, प्रमोशन होता जाएगा। इतने अस्थाई पद नहीं देना चाहिए। आईएएस कैडर में मेरे ही बैच के दो अधिकारी एसीएस पद पर पदोन्नत नहीं हो पाए। मोहम्मद सुलेमान और मैं हो गए। हालांकि एडीजी के पदों को मंजूरी देने पक्ष मे मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि वे जहां भी जाते हैं आईपीएस अधिकारी कहते हैं कि उनके प्रमोशन नहीं हो रहे। इसलिए एडीजी के पदों को मंजूरी दे दी जाए। उल्लेखनीय है कि 15 अगस्त को पुलिस कमिश्नर सिस्टम लागू करने को भी आईएएस-आईपीएस अफसर एक-दूसरे असंतुष्ट थे और दोनों के प्रतिनिधिमंडलों ने मुख्यमंत्री के सामने अपनी बात रखी थी। गुरुवार को कैबिनेट में 1987 बैच के एडीजी डॉ. विजय कुमार का मसला आया कि डीजी स्तर का एक पद रिक्त होता तो वे भी रिटायरमेंट से पहले डीजी बन जाते। इस पर कमलनाथ ने कहा कि इसे भी तुरंत किया जाए। सिर्फ एक महीने से किसी को नुकसान नहीं होना चाहिए। बाकी प्रक्रिया बाद में देखी जाएगी। यहां बता दें कि डॉ. विजय कुमार अगले माह 31 अक्टूबर को रिटायर हो रहे हैं। गृह विभाग का कहना है कि कैबिनेट से जिन भी अस्थाई पदों को मंजूरी मिली है, इनकी सूचना जल्द केंद्र सरकार को भेजी जाएगी। अस्थाई पद दो वर्ष के लिए हैं। भविष्य में रिक्त होने वाले पदों में इन्हें समायोजित कर दिया जाएगा।



 

Advertisment
 
प्रधान संपादक समाचार संपादक
सैफु द्घीन सैफी डॉ मीनू पाण्ड्य
Copyright © 2016-17 LOKJUNG.com              Service and private policy              Email : lokjung.saify@gmail.com