ब्रेकिंग न्यूज़ शाहजहानाबाद। चिन्मयानंद पर यौन शोषण का आरोप लगाने वाली छात्रा को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा गया।                मप्र / राज्य सरकार ने वैट 5% बढ़ाया, भोपाल में आज से पेट्रोल 2.91 रु. और इंदौर में 3.26 रुपए महंगा                इंदौर। मैं किसी श्वेता को नहीं पहचानता, सबके नाम उजागर होने चाहिए : पूर्व गृह मंत्री भूपेंद्र सिंह                  
कई अफसर, नेताओ के नाम के खुलासो के बाद जांच मे आई मंदी, पुलिस पर दबाव मामला बढ़ाया न जाये।


भोपाल। हनीट्रेप से जुड़ी पाँच महिलाओ के बारे मे शुक्रवार को पूछताछ के दौरान पुलिस के सामने और भी कई बड़े खुलासे हुए हैं। पुलिस और एटीएस को पता चला है कि इन महिलाओं ने करीब 20 लोगों को अपने जाल में फंसाकर उनके वीडियो बनाए और इन्हें वायरल करने की धमकी देकर उनसे करीब 15 करोड़ रुपए की वसूली की है। किसी से 50 लाख तो किसी से तीन करोड़ रुपए तक की वसूली की गई। इनसे जब्त मोबाइल और 8 सिम की जांच में करीब 90 वीडियो भी मिले हैं। इनमें से 30 वीडियो आईएएस, आईपीएस अफसरों और नेताओं के हैं। फोरेंसिक जांच के लिए भेजा है। शुक्रवार को हुए खुलासे के बाद जांच मे धीरे आ गई हैं। जैसे- जैसे खुलासे हो रहे कई अफ़सरो और नेताओ कि साँसे तेज हो रही हैं कही उनका नाम सामने न आ जाए। जिसके चलते पुलिस पर दबाव आने लगा हैं कि इस मामले को ज्यादा न बढ़ाया जाए। अब देखना हैं इतना बढ़ा मामला जिसमे प्रशासन के आधे लोगो के नाम होने कि आशंका बताई जा रही हैं यह मामला कहा तक जाता हैं। न्यायपूर्ण फैसला होगा? या फिर इस मामले को भी दावा दिया जाएगा? क्योकि इसमे कई बड़े नेताओ और अफसरो के वीडियो सामने आए हैं।  

जांच मे मिले वीडियो ज़्यादातर श्वेता जैन और श्वेता स्वप्निल जैन के हैं। इनसे जुड़ी 5-6 लड़कियां और हैं, जो इन्हें के साथ रैकेट में काम करती हैं। फिलहाल, कोर्ट ने श्वेता विजय जैन, श्वेता स्वप्निल जैन और बरखा अमित सोनी को निगम इंजीनियर से 3 करोड़ की डिमांड करने के मामले में जेल भेज दिया। वही, आरोपी आरती दयाल, छात्रा मोनिका यादव और ड्राइवर ओमप्रकाश 22 सितंबर तक इंदौर पुलिस की रिमांड पर हैं। बताया जा रहा हैं कि एडीजी स्तर के एक पुलिस अधिकारी पूर्व में इंदौर पोस्टिंग के दौरान इन महिलाओं के ज्यादा संपर्क में रहे। महिलाओं की इन अफसरों से मुलाकात भोपाल के एक नामी पुराने होटल के साथ इंदौर-भोपाल के फार्म हाउस में होती थी।

छात्रा मोनिका यादव का बयान.....

पूछताछ मे मोनिका यादव ने इंदौर पुलिस को बताया, ‘‘आरती मैडम से मेरी दोस्ती छह महीने पहले फेसबुक पर हुई थी। मुझे नौकरी की जरूरत थी, इसलिए मैंने उनसे मदद मांगी। आरती दयाल का रौब देखकर मैं प्रभावित हो गई और नौकरी के चक्कर में उससे जुड़ गई। उसने वीडियो कब बना लिया, पता नहीं चला। आरती खुद को सरकारी कॉन्ट्रैक्टर बताकर बड़े लोगों से मिलती। मैडम ने मुझे भोपाल की एक होटल में निगम इंजीनियर हरभजन सिंह से मिलवाया। फिर इंजीनियर दो-तीन बार और भोपाल आए। वहां मुझसे होटल में मिले। पहले मेरे साथ आरती मैडम कमरे में रहती थी और इंजीनियर के आते ही वह चली जाती थी। वैसे इंजीनियर से वे इसके बदले में क्या डिमांड करती थी, ये वे ही जाने, पर एक बार इंजीनियर ने मुझे 8 हजार रुपए दिए थे। चार दिन पहले आरती मैडम मिली तो बोली कि इंदौर चलो, तुम्हारी पक्की नौकरी लगने वाली है। मैंने घरवालों को बोल दिया कि पांच दिन बाद नौकरी की मिठाई लेकर लौटूंगी, आरती 50 लाख रुपए लेने के लिए मुझे इंदौर लाई थी।’’ लेकिन यहां आते ही पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया।

Advertisment
 
प्रधान संपादक सहायक-संपादक समाचार संपादक
सैफु द्घीन सैफी राकेश शर्मा डॉ मीनू पांडे
Copyright © 2016-17 LOKJUNG.com              Service and private policy              Email : lokjung.saify@gmail.com