ब्रेकिंग न्यूज़ नई दिल्ली। दीपिका उन लोगों के साथ खड़ी हुईं, जो हर सीआरपीएफ जवान की मौत पर जश्न मनाते हैं : स्मृति ईरानी                जयपुर / पुलिस का दावा- इंडियन ऑयल के मैनेजर ने ही पत्नी और 21 महीने के बेटे की हत्या करवाई,                कोलकाता। मैं अकेले ही सीएए और एनआरसी का विरोध करूंगी, पश्चिम बंगाल में इन्हें लागू नहीं होने दूंगी:ममता बेनर्जी                नई दिल्ली। दुष्कर्मी विनय ने सुप्रीम कोर्ट में क्यूरेटिव पिटीशन दायर की, फांसी पर रोक लगाने की भी मांग की                दिल्ली चुनाव: कांग्रेस बढ़ी तो AAP को टेंशन, घटी तो BJP की वापसी पर लगेगा ग्रहण                  
अयोध्या के फैसले को लेकर सरकार द्वारा जगह-जगह अलर्ट जारी सोशल मीडिया पर भड़काऊ पोस्ट डालने वालो पर कड़ी चौकसी|

भोपाल। चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पांच जजों की संविधान पीठ को 2.77 एकड़ की विवादित भूमि के मालिकाना हक पर फैसला जल्द ही आने वाला हैं। जस्टिस गोगोई का आखिरी वर्किंग डे 15 नवंबर है। इसलिए 15 नवंबर या इससे पहले कभी भी फैसला आना तय है। फैसले को लेकर लोगो मे शांति बनी रहे और किसी भी प्रकार का विवाद न हो इसके लिए सुप्रीम कोर्ट के फैसले से पहले केंद्र सरकार ने गुरुवार को सभी राज्यों से अलर्ट रहने को कहा। ओर साथ ही वॉट्सऐप, ट्विटर, फेसबुक के अलावा टेलीग्राम और सिग्नल जैसे नए एप पर भी नजर रखने ने हिदायत दी है ताकि किसी भी प्रकार से नरफ़त फैलाने को कोई मौका नहीं मिले जिसके जरिये, बड़ा विवाद हो। एप्स (apps) के द्वारा लोगो को बडकाया जा सकता हैं, इसके लिए सरकार ने सोशल मीडिया पर नफरत फैलाने वालों के खिलाफ जीरो टॉलरेंस की नीति अपनाने के निर्देश दिए। सरकार के आदेश पर वॉट्सऐप ने एक महीने में देशभर में 20 लाख ग्रुप और अकाउंट बंद कर दिए हैं।वॉट्सऐप की प्रवक्ता ने बताया कि अयोध्या फैसले के मद्देनजर अपने प्लेटफार्म का दुरुपयोग रोकने के लिए आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस का इस्तेमाल किया जा रहा है। इससे संदिग्ध गतिविधियों वाले ग्रुपों और नंबरों की पहचान कर उन्हें ब्लॉक किया जा रहा है। फेसबुक के दिल्ली स्थित कार्यालय ने भी हिदायतों पर अमल की प्रतिबद्धता जताई है। नए एप के जरिए नफरत फैलाने वाले लोगों का बड़ा तबका गड़बड़ी कर रहा है। इनसे निपटने के लिए गृह मंत्रालय की आंतरिक सुरक्षा विंग ने व्यापक तैयारी की है। यह विंग राज्यों से तालमेल बना चुका है।

 

 

 

फैसले के बाद देश मे किसी भी प्रकार की कोई घटना नहीं हो इसके लिए गृह मंत्रालय ने गुरुवार को एक अधिकारी ने बताया कि राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को संवेदनशील क्षेत्रो में पर्याप्त सुरक्षाबल तैनात करने के निर्देश दिए गए हैं। सुप्रीम कोर्ट के फैसले से पहले लाखों की संख्या में श्रद्धालु अयोध्या पहुंच रहे हैं। इसलिए केंद्र ने वहां अर्द्धसैनिक बलों के करीब 4000 जवान भेज दिए हैं। इनके अलावा यूपी पुलिस की रिजर्व कंपनियां भी अयोध्या पहुंच गई हैं।

 

 

 

 

 

सरकारी कर्मचारी की छुट्टिया रद्द

सभी सरकारी कर्मचारी की छुट्टिया रद्द कर दी गई हैं, अति आवश्यक होने पर की कर्मचारी अपने वरिष्ठ अधिकारी से बात कर छुट्टी ले सकता हैं। रेलवे सुरक्षा बल ने भी अपने सभी जवानो की छुट्टियां रद्द कर दी हैं। इन्हें ट्रेनो में तैनात किया जाएगा। एडवाइजरी में प्लेटफॉर्म, रेलवे स्टेशन, यार्ड, पार्किंग, पुल और सुरंगो की सुरक्षा बढ़ाने को कहा गया है। मुंबई और दिल्ली समेत 78 स्टेशनो की सुरक्षा बढ़ा दी गई है।

Advertisment
 
प्रधान संपादक सहायक-संपादक समाचार संपादक
सैफु द्घीन सैफी राकेश शर्मा डॉ मीनू पांडे
Copyright © 2016-17 LOKJUNG.com              Service and private policy              Email : lokjung.saify@gmail.com