ब्रेकिंग न्यूज़ सीएम ने महाराष्ट्र के समाजसेवी सागर रेड्डी को दिया प्राध्यापक यशवंत केलकर पुरस्कार                ढाई दिन उपमुख्यमंत्री रहने के बाद अजित पवार ने दिया इस्तीफा                 पुडुचेरी। केंद्र जरूरत के हिसाब से हमें राज्य केंद्र शासित प्रदेश कहता है , ट्रांसजेंडर का दर्जा क्यों नहीं देता : नारायणसामी                राजस्थान। जयपुर के मयंक ने 21 साल की उम्र में जज बनने की उपलब्धि की हासिल।                  
सागर गैरे नाम बड़े दर्शन छोटे, डोलराज गैरे का डोला ईमान आउटलेट पर मिली गंदगी निगम ने ठोका जुर्माना।

भोपाल।(सुलेखा सिंगोरिया) साईकिल सूपवाला यानी डोलराज गैरे एक बार फिर से निगम के निशाने पर। कल तक साइकिल पर सूप बेचकर अपने फास्ट फूड कारोबार को शुरू करने वाले डोलराज गैरे राजधानी भोपाल मे सागर गैरे फास्ट फूड के नाम से 7 आउटलेट संचालित करवा रहे हैं। राजधानी के युवाओ की पहली पसंद बन चुका सागर गैरे लोगो के स्वास्थ्य से खिलवाड़ करने पर उतारू हो चुका हैं। कहावत है जैसे – जैसे मुर्गी मोटी होती हैं, वैसे वैसे अंडा छोटा देती हैं, और यही कहावत सागर गैरे के मालिक डोलराज गैरे पर सौ फीसदी सटीक बैठती हैं। भाजपा शासन काल मे एक विधायक के खासम-खास बनाकर फ्रांचाईजी देकर करोड़पति बनने वाले डोलराज गैरे का ईमान और ज्यादा पैसा कमाने के लिए डोल रहा हैं। जिसके चलते उनका ध्यान अपनी आउटलेट की स्वच्छता और बिकने वाले खादय सामग्री की गुणवत्ता पर कम और शहर मे अपने आउटलेट बढ़ाने पर ज्यादा हो रहा हैं। पूर्व मे खादय एवं औषधी प्रशासन द्वारा सागर गैरे के आउटलेट पर बिकने वाली खादय सामग्रीयों के दूषित पाए जाने पर कार्यवाही हो चुकी हैं। और अभी हाल ही मे भोपाल म्यूसिपल कॉर्पोरेशन के मजिस्ट्रेट माननीय रोहित श्रीवास्तव ने आउटलेट मे गंदगी मिलने पर सागर गैरे पर 5 हजार रुपये की जुर्माना ठोका। बार-बार खादय विभाग और नगर – निगम की कार्यवाही होने के बावजूद सागर गैरे के संचालन मे सफाई और खादय सामग्री की गुणवत्ता पर ध्यान नहीं देना इस बात को इंगित करता हैं। कि इनके संचालक का एक मात्र उददेश्य घटिया खादय सामग्री बेचकर राजधानी के युवाओ की जेबे खाली करना और उनके स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ ही धेय बन चुका हैं। 

Advertisment
 
प्रधान संपादक सहायक-संपादक समाचार संपादक
सैफु द्घीन सैफी राकेश शर्मा डॉ मीनू पांडे
Copyright © 2016-17 LOKJUNG.com              Service and private policy              Email : lokjung.saify@gmail.com