ब्रेकिंग न्यूज़ नई दिल्ली। दीपिका उन लोगों के साथ खड़ी हुईं, जो हर सीआरपीएफ जवान की मौत पर जश्न मनाते हैं : स्मृति ईरानी                जयपुर / पुलिस का दावा- इंडियन ऑयल के मैनेजर ने ही पत्नी और 21 महीने के बेटे की हत्या करवाई,                कोलकाता। मैं अकेले ही सीएए और एनआरसी का विरोध करूंगी, पश्चिम बंगाल में इन्हें लागू नहीं होने दूंगी:ममता बेनर्जी                नई दिल्ली। दुष्कर्मी विनय ने सुप्रीम कोर्ट में क्यूरेटिव पिटीशन दायर की, फांसी पर रोक लगाने की भी मांग की                दिल्ली चुनाव: कांग्रेस बढ़ी तो AAP को टेंशन, घटी तो BJP की वापसी पर लगेगा ग्रहण                  
2013 में हुई शिकायत पर लोकायुक्त की कार्रवाई, यश एयरवेज के संचालक समेत आईएएस, पीडब्ल्यूडी के अफसरों पर केस दर्ज।

भोपाल।(सुलेखा सिंगोरिया) छह साल पुरानी शिकायत पर उज्जैन की दताना-मताना हवाईपट्‌टी के मामले मे लोकायुक्त पुलिस ने अपने ही विभाग के पूर्व डीजी अरुण गुर्टू, उज्जैन कलेक्टर रहे पांच आईएएस, पीडब्ल्यूडी के अफसरों सहित 16 लोगों पर केस दर्ज किया है।

 

दरअसल, छह साल पहले हुई लोकयुक्त मे हुई शिकायत के अनुसार शिकायतकर्ता का आरोप था कि गुर्टू ने अपने पद का फायदा उठाते हुए 2013 के बाद गैरकानूनी तरीके से हवाई पट्टी का संचालन किया। हर साल जो लीज रेंट कंपनी से जमा करवाने की जिम्मेदारी कलेक्टरों की थी, वो तत्कालीन कलेक्टरों ने पूरी नहीं की। इसे लेकर लोकायुक्त मुख्यालय से जांच के बाद एफआईआर दर्ज कर ली। मेंटेनेंस के नाम पर पीडब्ल्यूडी से 2.66 करोड़ खर्च कराए, लोकायुक्त डीएसपी एवं जांच अधिकारी बसंत श्रीवास्तव ने बताया साल 2013 में इस मामले में शिकायत हुई थी। जांच के बाद तत्कालीन कलेक्टर के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की थी। प्राथमिकी दर्ज होने के बाद जांच आगे बढ़ी और इस संबंध में मिले तथ्यों के आधार पर लोकायुक्त ने अब एफआईआर दर्ज कर ली है।साल 2013 में यश एयरवेज की लीज और लाइसेंस निरस्त होने के बाद इस हवाईपट्टी का संचालन लोकायुक्त के पूर्व डीजी अरुण गुर्टू की सेंटर एविएशन कंपनी द्वारा किया जा रहा है। लीज शर्तों का उल्लंघन करते हुए एयरवेज संचालकों ने 9 साल तक लीज रेंट भी जमा नहीं किया। संचालकों ने पीडब्ल्यूडी के अफसरो के साथ मिलकर 2.66 करोड़ रुपए हवाईपट्टी के रखरखाव के नाम पर खर्च करा लिए। सालों से हवाईपट्टी ऐसी ही पड़ी रही और यहां एयरपोर्ट नहीं बन पाया। एसपी लोकायुक्त राजेश मिश्रा ने कहा कि भोपाल मुख्यालय से आदेश के बाद यश एयरवेज की लीज और मेंटेनेंस को लेकर भ्रष्टाचार के मामले में एफआईआर दर्ज कर ली है। इसके बाद अगले स्तर पर जांच शुरू होगी।

 

 

 

अरुण गुर्टू, चेयरमैन, सेंटर एविएशन एकेडमी

हवाईपट्‌टी की लीज हर बार जमा की। 2013 में गैरकानूनी ढंग से हवाईपट्‌टी हस्तांतरित नहीं की। सिर्फ कंपनी का नाम बदला था। पहले यश एयरवेज था, जिसे सेंटर एविएशन एकेडमी किया। इसी साल मई में हवाईपट्‌टी खाली कर दी है। 

Advertisment
 
प्रधान संपादक सहायक-संपादक समाचार संपादक
सैफु द्घीन सैफी राकेश शर्मा डॉ मीनू पांडे
Copyright © 2016-17 LOKJUNG.com              Service and private policy              Email : lokjung.saify@gmail.com