ब्रेकिंग न्यूज़ बीजेपी में सिंधिया की एंट्री से नाराजगी, पार्टी के बड़े नेता प्रभात झा हुए खफा                निर्भया का दोषी पवन पहुंचा कोर्ट, कहा- मुझे पीटने वाले पुलिसकर्मियों के खिलाफ दर्ज हो केस                महाराष्ट्र। बुलढाणा के सरकारी स्कूल की छात्रा बनी एक दिन कि डीएम।                  
हमीदिया......3 साल से बंद पड़ी है, 6 वार्मर और दो फोटो थैरेपी मशीनें।


भोपाल।(सुलेखा सिंगोरिया) शहडोल जिला अस्पताल में 12 घंटे के भीतर छह नवजात बच्चो की मौत का मामला सामने आने के बाद बुधवार को राज्य के स्वास्थ्य मंत्री तुलसीराम सिलावट ने प्रदेश के सभी जिला अस्पतालो और मेडिकल कॉलेज अस्पताल्स में संचालित एसएनसीयू के ऑडिट के निर्देश दिए हैं। यह ऑडिट संभागायुक्त की अध्यक्षता वाली कमेटी करेगी। हमीदिया और जेपी अस्पताल के एसएनसीयू में नवजात बच्चो के इलाज के इंतजाम की पड़ताल में सामने आया कि हमीदिया अस्पताल में नवजात बच्चो के इलाज के लिए बनी सिक न्यू बोर्न केयर यूनिट (एसएनसीयू) में 6 वार्मर और दो फोटो थैरेपी मशीनें तीन साल से खराब हैं। अस्पताल प्रबंधन ने इन मशीनो को रिपेयर ही नहीं कराया। इस कारण अस्पताल में कई बार नवजात को वार्मर और फोटो थैरेपी मशीन से इलाज के लिए इंतजार भी करना पड़ता है।

 

35 वार्मर और 17 फोटो थैरेपी मशीनें हैं... हमीदिया के शिशु रोग विभाग की प्रोफेसर डॉ. ज्योत्सना श्रीवास्तव ने बताया कि यहां 18 फोटो थैरेपी मशीनें हैं। इसके अलावा 35 वार्मर हैं। इनमें से कुछ खराब भी हैं, जिन्हें समय-समय पर रिपेयर कराते हैं।

Advertisment
 
प्रधान संपादक समाचार संपादक
सैफु द्घीन सैफी डॉ मीनू पाण्ड्य
Copyright © 2016-17 LOKJUNG.com              Service and private policy              Email : lokjung.saify@gmail.com