ब्रेकिंग न्यूज़ बीजेपी में सिंधिया की एंट्री से नाराजगी, पार्टी के बड़े नेता प्रभात झा हुए खफा                निर्भया का दोषी पवन पहुंचा कोर्ट, कहा- मुझे पीटने वाले पुलिसकर्मियों के खिलाफ दर्ज हो केस                महाराष्ट्र। बुलढाणा के सरकारी स्कूल की छात्रा बनी एक दिन कि डीएम।                  
रेलवे लाइन........अब सफर के दौरान कर्मचारी, सह यात्रियो के साथ दुर्व्यवहार करने वाले यात्रियो पर की जाएगी कार्रवाई, साथ ही प्रतिबंधित भी किया जाएगा।

नई दिल्ली। अब ट्रेन ने सफर करने वाले यात्रियो की बदतमीजी उन्ही के लिए हानिकारक साबित हो सकती हैं। जी हाँ, रेलवे बोर्ड ने इसका मॉडल तैयार करने का आदेश दे दिया है। जिसमे ट्रेन में तैनात कर्मचारी या सह यात्री के साथ यात्रियो के द्वारा बदतमीजी करने की शिकायत पर कार्रवाई की जाएगी। इसके अलावा रेलवे उन यात्रियों के सफर पर भी रोक लगाने की तैयारी में है, जिनकी यात्रा एयरलाइंस द्वारा भी प्रतिबंधित हो। रेलवे सभी एयरलाइंस से ऐसे यात्रियों की सूची लेगा और फिर इसे अपने सिस्टम में डाल देगा, ताकि कुछ महीनों के लिए उनकी टिकट बुकिंग पर रोक लगाई जा सके। हाल ही में चार एयरलाइंस द्वारा कॉमेडियन कुणाल कामरा पर प्रतिबंध लगाने के बाद रेलवे भी हरकत में आ गया है। हालांकि, खराब बर्ताव करने वाले यात्रियों पर यह प्रतिबंध कब से और कितने समय के लिए लगाया जाएगा, इस पर फैसला नहीं हुआ है।

रेलवे बोर्ड के अनुसार ट्रेन में सफर के दौरान सह यात्रियों द्वारा दुर्व्यवहार करने की शिकायतें अक्सर मिलती हैं। मामला ज्यादा बढ़ने पर आरपीएफ या जीआरपी द्वारा दोनों पक्षो की सहमति से मामला निपटाया जाता है। अगर मामला नहीं निपटता है, तो एफआईआर दर्ज होती है। लेकिन यात्री की हरकतें वही की वही, इसीलिए रेलवे के  कर्मचारी या सह के साथ यात्रा के दौरान दुर्व्यवहार करने वाले यात्रियो के खिलाफ कार्रवाई की जाएंगी।

रेलवे दुर्व्यवहार करने वाले व्यक्ति का नाम, पता, जन्म तारीख और पहचान-पत्र नंबर आदि आईआरसीटीसी को भेज सकता है। साथ ही रेलवे के सिस्टम में (विंडो टिकट) दर्ज कराकर नो ट्रेवल लिस्ट में डलवा सकता है। जब संबंधित व्यक्ति रिजर्वेशन के लिए विंडो पर जाएगा या आईआरसीटीसी की साइट पर जाएगा, तो उसका रिजर्वेशन नहीं होगा। चूंकि फ्लाइट में टिकट बुक कराते समय एक आईडी नंबर देना अनिवार्य है, लेकिन ट्रेनों में रिजर्वेशन कराते समय केवल नाम और उम्र लिखी जाती है, इस तरह एक ही नाम और उम्र के तमाम लोग हो सकते हैं। इन्हीं बाधाओं को देखते हुए रेलवे एक नया मॉडल तैयार कर रहा है।

फेशियल रिकग्निशन सिस्टम-

रेलवे अपराधों पर रोक लगाने के लिए फेशियल रिकग्निशन टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल शुरू करने जा रहा है। बेंगलुरू स्टेशन पर फरवरी से इसका इस्तेमाल शुरू कर दिया जाएगा। इसकी मदद से अपराधियों की पहचान आसान हो जाएगी। इस तकनीक से अपराधियों के चेहरे की मैपिंग की जाएगी। इसके बाद उनकी फोटो क्लिक करते ही देश के हर स्टेशन पर पहुंच जाएगी। इसके लिए वीडियो सर्विलांस प्रणाली लगाई जा रही है।

Advertisment
 
प्रधान संपादक समाचार संपादक
सैफु द्घीन सैफी डॉ मीनू पाण्ड्य
Copyright © 2016-17 LOKJUNG.com              Service and private policy              Email : lokjung.saify@gmail.com