ब्रेकिंग न्यूज़ बीजेपी में सिंधिया की एंट्री से नाराजगी, पार्टी के बड़े नेता प्रभात झा हुए खफा                निर्भया का दोषी पवन पहुंचा कोर्ट, कहा- मुझे पीटने वाले पुलिसकर्मियों के खिलाफ दर्ज हो केस                महाराष्ट्र। बुलढाणा के सरकारी स्कूल की छात्रा बनी एक दिन कि डीएम।                  
प्रशिक्षु सहायक वन संरक्षक विजय मोरे को लोकायुक्त पुलिस ने रिश्वत लेते किया गिरफ्तार।

भोपाल। सोहागपुर मे लोकायुक्त पुलिस द्वारा प्रशिक्षु सहायक वन संरक्षक अफसर विजय मोरे की रिश्वत के दौरान हुई गिरफ्तारी ने वन विभाग के अन्य अफसरो के लिए भी मुसीबत खड़ी कर दी हैं। अफसरो की मुश्किलों का कारण हैं जांच के दौरान लोकायुक्त पुलिस को मोरे के ऑफिस मे मिली एक डायरी, जिसमे यह स्पष्ट रूप से दर्शाया गया हैं, किसको कितना पैसे दिया गया है। डायरी मे मुख्य वन संरक्षक अफसर के नाम के आगे 50 हजार व एसडीओ के आगे एक लाख रु., ऐसे ही कई अफसरो के नाम के साथ राशि लिखे होने की बात सामने आई हैं। हालांकि अभी लोकायुक्त मे इनमे से कई नामो की पुष्टि नहीं की हैं।   जानकारी के मुताबिक मोरे ने 7 दिसंबर 2019 को गुर्जरखेड़ी निवासी महेश कुमार तिवारी के दो ट्रैक्टर-टीआरआम की लकड़ी ले जाते जब्त की थी। इन्हें छोड़ने के लिए उसने एसडीओ और डीएफओ के नाम पर तीन लाख रुपए की रिश्वत मांगी थी। इस संबंध में महेश ने लोकायुक्त में मोरे की शिकायत की थी। इसके बाद लोकायुक्त टीम ने उसे मंगलवार रात करीब 9:30 बजे फॉरेस्ट गेस्ट हाउस में महेश से 50 हजार रु. घूस लेते गिरफ्तार किया था।

विजय मोरे मध्यप्रदेश लोक सेवा आयोग (एमपीपीएससी) 2017 से एसीएफ के पद पर सिलेक्ट हुआ था। उसकी सोहागपुर वन क्षेत्र, होशंगाबाद में नवंबर 2019 में पोस्टिंग हुई थी।  



Advertisment
 
प्रधान संपादक उप संपादक समाचार संपादक
सैफु द्घीन सैफी सुलेखा सिंगोरिय डॉ मीनू पाण्ड्य
Copyright © 2016-17 LOKJUNG.com              Service and private policy              Email : lokjung.saify@gmail.com