ब्रेकिंग न्यूज़ इंदौर पूर्व लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन की तबियत में सुधार                मुबई ग्लोबल मार्केट में तेजी के कारण बढ सकते हे खाद्द्य तेलों के दाम                भोपाल सिपाही रितेश यादव ने दर्द से परेशां होकर की ख़ुदकुशी                भोपाल संकट समय केन्द्रिये मंत्री से युवक ने आक्सीजन मांगी मंत्री पटेल ने कहा दो खाओगे                भोपाल पुलिस दुआरा मनमर्जी से बैरिगेट्स लगाने को लेकर जनता में गुस्सा                भोपाल दस दिनों में करोना से दस शिक्षकों की मौत,आयुक्त ने जानकारी बुलवाई                भोपाल खाना बनाते समय महिला आग से झुलसी                भोपाल डॉ ने सफाईकर्मी महिला को मारा थप्पड़ कर्मचारी गए हड़ताल पर                बीजेपी में सिंधिया की एंट्री से नाराजगी, पार्टी के बड़े नेता प्रभात झा हुए खफा                निर्भया का दोषी पवन पहुंचा कोर्ट, कहा- मुझे पीटने वाले पुलिसकर्मियों के खिलाफ दर्ज हो केस                  
वेबसाइट में ऑनलाइन बुक हो रहा था, सट्टा दो सटोरियों को गिरफ्तार कर उनसे रुपए 9.5 लाख बरामद हुए।

भोपाल क्राइम ब्रांच ने दो सटोरियों को धर दबोचा, ये लोग  से दो अलग अलग नाम से वेबसाइड़ चलाते थे। जिससे  सट्टे का नंबर लगते थे। पुलिस ने दोनों के पास से साढ़े नो लाख रुपए नगद 8 मोबाइल फोन, 6 एटीएम कार्ड कब्जे में लिए आरोपी गूगल पे से और फोन पे के जरिए लोगो से रुपए लेते थे। एएसपी गोपाल धाकड़ के मुताबिक निशातपुरा में बिलाल कॉलोनी के एक मकान में मटका सट्टा बुक होने की सटीक जानकारी मिलने पर पुलिस ने टीम बना कर दबिश दी तो यहाँ पर दो युवक ऑनलाइन सट्टा बुक  कर रहे थे। पकड़े गए आरोपियों में अब्दुल इफ़्तेखर और सऊद खान शामिल है। ये मकान इस्तेखार का है एशबाग में रहने वाले सऊद खान सट्टा बुक करने में साथ देता था। पूछताछ में दोनों ने बताया की सट्टे को चलाने के लिए दो वेबसाइड़ डेवलप कराई थी। (1)सट्टामटका डॉट प्ले इन और (2)सट्टामटका मोबी डॉट कॉम के जरिए 0 से लेकर 9 नंबर तक सट्टा बुक किया जाता था। और ये ही वेबसाइड़ के जरिए,लोगो का रजिस्ट्रेशन होता था। रजिस्ट्रेशन के बाद बुकिंग में 500 रुपए से ही रजिस्ट्रेशन होता था। जीतने वाले को आरोपी हर एक रुपए पर साढ़े नौ रुपए तक देते थे। एएसपी ने बताया की दोनों के पास 9.5 नगद ,8 मोबाइल और 6 एटीएम कार्ड मिले ,हालांके सभी बैंक खाते किसी और के नाम रजिस्टर्ड है। ऐसा इसीलिए किया जाता था, ताकि पुलिस की उन पर नजर ना पड़े । पुलिस को इन खातो में भी लाखो के ट्रांसजेकसन का पता चला है हार जीत की रकम गूगल पे या फोन पे के जरिए ही ली दी जाती थी इसके पूर्व आरोपी 2016 मे भी जहगीराबाद ठाणे मे सट्टे के आरोप मे पकड़ा जा चुका है

 

Advertisment
 
प्रधान संपादक समाचार संपादक
सैफु द्घीन सैफी डॉ मीनू पाण्ड्य
Copyright © 2016-17 LOKJUNG.com              Service and private policy              Email : lokjung.saify@gmail.com