ब्रेकिंग न्यूज़ इंदौर पूर्व लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन की तबियत में सुधार                मुबई ग्लोबल मार्केट में तेजी के कारण बढ सकते हे खाद्द्य तेलों के दाम                भोपाल सिपाही रितेश यादव ने दर्द से परेशां होकर की ख़ुदकुशी                भोपाल संकट समय केन्द्रिये मंत्री से युवक ने आक्सीजन मांगी मंत्री पटेल ने कहा दो खाओगे                भोपाल पुलिस दुआरा मनमर्जी से बैरिगेट्स लगाने को लेकर जनता में गुस्सा                भोपाल दस दिनों में करोना से दस शिक्षकों की मौत,आयुक्त ने जानकारी बुलवाई                भोपाल खाना बनाते समय महिला आग से झुलसी                भोपाल डॉ ने सफाईकर्मी महिला को मारा थप्पड़ कर्मचारी गए हड़ताल पर                बीजेपी में सिंधिया की एंट्री से नाराजगी, पार्टी के बड़े नेता प्रभात झा हुए खफा                निर्भया का दोषी पवन पहुंचा कोर्ट, कहा- मुझे पीटने वाले पुलिसकर्मियों के खिलाफ दर्ज हो केस                  
रियल स्टेट कंपनी में निवेश के नाम पर जालसाजी

भोपाल

प्रदेश मे कई रियल स्टेट कंपनियां है। जो की निवेश की गयी राशियो को कुछ सीमित समय में दुगना करके वापस दिया जाता है,ऐसा ही मामला एक कंपनी चिटफ़ंड कंपनी का सामने आया है। जिसमे वह कंपनी दावा करता है,की पाँच साल मे निवेश की गयी रकम को दुगना करने का झांसा देकर कंपनी के चार लोगो ने 140 लोगों से 44 लाख रुपए जमा करवाए। लेकिन समय पूरा होने से पहले ही अपना कार्यालय में ताला लगाकर आरोपीगण फरार है। हबीबगंज थाना पुलिस ने चिटफ़ंड के चारों आरोपियों के खिलाफ धोखाधड़ी समेत अन्य धाराओ में केस दर्ज कर लिया है। एसआई मनोज यादव ने बताया कि पहली एफआईआर दो बहनों कमला राजपूत और किरण राजपूत कि शिकायत पर कि गयी है वर्ष 2013 मे उन्होने लखनऊ निवासी प्रदीप सिंह और प्रदीप वर्मा कि कंपनी रियल इंफ्राटेक मे निवेश किया था। लखनऊ कि इस कंपनी का कार्यालय 11 नंबर स्टाप पर था। ये कोंपनी भी निवेश कि रकम को दुगनी करने का दावा कर लोगों को भरोसे में लाकर करीब 70 लोगों से 22 लाख का निवेश करवा लिया था। और जब 2018 मे समय-सीमा पूर्ण होने पर दफ्तर गए तो वह के दफ्तर पर ताला लगा कर गायब हो गए है। और ऐसा ही धोखा धड़ी का एक मामला बावड़ियाकला का है। यहां स्थित बेशकीमती जमीन को बेचने का वाले दो युवक के खिलाफ  शाहपुरा पुलिस ने केस दर्ज किया। जमीन मालिक के जिंदा रहने तक ही पवार- ऑफ अटार्नी वैध थी। उनके निधन के बाद भी इसका इस्तेमाल किया गया ।

 

 

 

Advertisment
 
प्रधान संपादक समाचार संपादक
सैफु द्घीन सैफी डॉ मीनू पाण्ड्य
Copyright © 2016-17 LOKJUNG.com              Service and private policy              Email : lokjung.saify@gmail.com