ब्रेकिंग न्यूज़ इंदौर टी आई भदोरिया सस्पेंड                प्रदेश मे कल से बंद रहेंगी 150 जीनिग फेक्टरी                समाजवादी पार्टी के संरक्षक पूर्व मुख्य मंत्री मुलायम सिंह का दिल्ली मे निधन                भोपाल : निगम की वेबसाइट से गायब हैं महापौर पार्षद                रतलाम : पश्चिम एक्स्प्रेस के फ़र्स्ट एसी कोच की स्प्रिंग टूटी |                भोपाल : पहली बार भोपाल में पुलिस परिवारों के लिए भी गरबा आयोजित                भोपाल : कमलनाथ बोले – शिवराज सरकार झूठ का पुलिंदा हैं                मुरादाबाद : नाबालिग से समूहिक दुष्कर्म, सड़क पर निर्वस्त्र छोड़ा |                नई दिल्ली-- कोमेडियन राजू श्रीवास्तव का लंबी बीमारी के बाद निधन                भोपाल : भोपाल शहर के नए प्रधान आयकर आयुक्त होंगे राजीव वाशर्णेय,अजय अत्री को इंदौर की कमान                भोपाल : इज्तिमा 18 से 21 नवंबर तक पहली बार विदेशी जमात शामिल नहीं होगी                नई दिल्ली : ईरान में महिलाएं हिजाब के खिलाफ सड़क पर हैं                मुंबई : केंद्रीय मंत्री राणे का अवैध निर्माण टूटेगा 10 लाख का जुर्माना लगा                गुना : कांग्रेस नेता ने बेटे को नौकरी दिलाने के नाम पर महिला के साथ ज़्यादती की                जयपुर : राम मंदिर आंदोलन से जुड़े आचार्य धर्मेन्द्र का निधन |                नई दिल्ली : गुजरात के आईपीएस को सुप्रीम कोर्ट से मिली राहत |                मुख्यमंत्री के निर्देश पर झाबुआ के एसपी अरविंद तिवारी सस्पेंड किए गए |                भोपाल, केक काटने को लेकर हुए विवाद में एसआई पर महिला से झूमाझटकी का आरोप                  
11 साल बाद फिर से गैस पीड़ितों की मौत के सही आंकड़े और, मुआवजे को लेकर दोबारा फाइल खोली जाएगी, 11को सुप्रीमकोर्ट में सुनवाई

भोपाल :(नुजहत सुल्तान ) भोपाल गैस त्रासदी में पीड़ितों की मौत का सही आंकड़ा और सही मुआवजे के लिए लगाई गई सुधार याचिका पर 11 साल बाद अब 11 अक्टूबर को सुप्रीमकोर्ट में सुनवाई होगी | सुनवाई को लेकर 5 गैस पीड़ित संगठनों ने हस्ताक्षर अभियान भी चलाकर रखा हैं | इस अभियान के तहत लगभग 18 दिनों में करीब 30 हज़ार लोगों ने साइन किए हैं | और केंद्र सरकार से मांग की जा रही हैं कि पीड़ितों की मौत के सही आंकड़ें पेश करके मुआवजा दिया जाए | गैस पीड़ितों के अभियान को देखकर बुधवार को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने गैस पीड़ित संगठनों से बातचीत करके भरोसा दिलाया कि गैस पीड़ितों को न्याय दिलाने के लिए भारत सरकार सुप्रीमकोर्ट में अपना पक्ष रखेगी | और कहा कि लोगों के इलाज में किसी तरह की कोई कमी नहीं आने देगी | ढींगरा ने बताया कि 5 गैस पीड़ित संगठनों ने सरकार द्वारा बताए गए मौत के आंकड़े और लोगों को दिए गए मुआवजे को लेकर सही आंकड़ें पेश नहीं किए थे | यही कारण हैं कि आज भी लाखों लोग गैस त्रासदी के बाद भी विभिन्न बीमारियों से लड़  रहे हैं | चूंकि पहले का समझौता भोपाल गैस त्रासदी में हुए नुकसान, घायलों और मरने वालों की संख्या की गलत धारणाओं पर आधारित था | अब केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने 1989 में भारत सरकार और यूका के बीच हुए समझौते के बारे में सही जानकारी ली, और गैस पीड़ितों की मौत के सही आंकड़ें और मुआवजे की स्थिति को लेकर फाइल दोबारा खोलने की बात कही हैं | सरकार के इस फैसले से भोपाल के गैस पीड़ितो मे खुशी कि लहर जाग उठी  है।

Advertisment
 
प्रधान संपादक समाचार संपादक
सैफु द्घीन सैफी डॉ मीनू पाण्ड्य
Copyright © 2016-17 LOKJUNG.com              Service and private policy              Email : lokjung.saify@gmail.com