ब्रेकिंग न्यूज़ राजस्थान : ड्राइवर को हार्ट अटैक आया अनियंत्रित कार ने 7 लोगों को कुचला |                 ब्यावरा : बेटी की रिपोर्ट लिखवाने पहुंचे पिता को थाने में आया हार्ट अटैक |                 सतना : दुष्कर्म नहीं कर पाया तो पत्थर से कुचलकर महिला की हत्या करने वाला आरोपी गिरफ्तार |                देवास : चरित्र शंका में कुल्हाड़ी मारकर पत्नी की हत्या करने वाला आरोपी गिरफ्तार |                खरगोन : ब्लैकमेलर कथित पत्रकार वारिस खान गिरफ्तार, कोर्ट ने दो दिन की रिमांड पर भेजा |                ग्वालियर : पेपर वाले दिन घूमने पर डांटा तो दसवीं की छात्र ने फांसी लगाकर दी जान |                ग्वालियर : पांचवें पेपर में पकड़ा फर्जी परीक्षार्थी बोला दोस्त बीमार था तो मैं आ गया |                 भोपाल : प्रोत्साहन राशि के भुगतान के बदले बीसीएम को 7 हज़ार रु. की घूस लेते पकड़ा |                रीवा : ऑनलाइन सट्टा कारोबारी पकड़ाया खाते के 50 लाख रु. फ्रीज़ |                उज्जैन : दर्शन करने आए बिहार के युवक की ज़्यादा भांग खा लेने से हुई मौत |                जबलपुर : एनएसयूआई कार्यकर्ताओं की पुलिस से झड़प 30 गिरफ्तार |                 पन्ना : डीईओ ऑफिस का बाबू 20 हज़ार रु. की घूस लेते पकड़ाया |                शिवपुरी : टीके लगने के बाद ढाई महीने की बच्ची को लगे दस्त, हालत बिगड़ने से मौत |                इंदौर : दादा की उंगली पकड़ घर लौट रही तीन साल की बच्ची को कार ने रौंदा, मौत |                  
सस्पेंड हुए प्रोफेसर को पांच साल से बिना कार्य बिना उपस्थिती के विवि प्रशासन प्रतिमाह कर रहा 1 लाख 14 हज़ार का भुगतान |

उज्जैन : मामला विश्वविद्दालय की भू-विज्ञान ( भौमिकी ) अध्यनशाला से जुड़ा हैं कुछ गलत दस्तावेज़ तैयार करने के मामले में माधवनगर पुलिस ने अध्यनशाला के प्रोफेसर डॉ. एसके मांजू के खिलाफ प्रकरण दर्ज कर उन्हें 18 फरवरी 2017 को गिरफ्तार किया था | विक्रम विश्वविद्दालय की प्रशासन ने मांजू की गिरफ्तारी के बाद उन्हे सस्पेंड कर दिया था और सस्पेंडसर लेटर में डॉ. मांजू को सस्पेंड की तारीख में किसी दूसरे विभाग में न जोड़े जाने से  भू-विज्ञान अध्यनशाला ही उनका मुख्यालय बन गया | जिस दिन से उन्हें सस्पेंड किया गया था तब से वह विश्वविद्दालय में एक बार भी उपस्थित नहीं हुए फिर भी विश्वविद्दालय प्रशासन द्वारा उन्हें 1 लाख 14 हज़ार रुपए हर महीने भेजे जा रहे हैं | टैक्स व अन्य कटौती के बाद उन्हे प्रतिमाह 83 हज़ार 494 रु. का भुगतान हो रहा हैं | इस तरह बिना कोई काम और बिना उपस्थिती के ही विश्वविद्दालय प्रशासन  पांच साल में डॉ. मांजू को लगभग 55 लाख रुपए का भुगतान कर चुका हैं | इधर, कुलसचिव का कहना हैं कि निलंबित कर्मचारी को जीवन निर्वाह के लिए भत्ता देना आवश्यक हैं जबकि विश्वविद्दालय परिनियम पर गोर करे तो उसमें निलंबित कर्मचारी को अवकाश की भी पात्रता नहीं हैं |

 

Advertisment
 
प्रधान संपादक समाचार संपादक
सैफु द्घीन सैफी डॉ मीनू पाण्ड्य
Copyright © 2016-17 LOKJUNG.com              Service and private policy              Email : lokjung.saify@gmail.com