ब्रेकिंग न्यूज़ मुंबई : सलमान खान के घर फायरिंग के आरोप में गिरफ्तार आरोपी हिरासत में फंदे पर लटका मौत |                खंडवा : मार्कशीट में जन्मतिथि देखकर प्रेम विवाह करने वाली लड़की निकली नाबालिग प्रेमी गिरफ्तार |                 दतिया : डायनामाइट में पत्थर मारते ही विस्फोट, दो युवकों की मौत |                इंदौर : फर्जी बिल कांड में तीन कर्मचारी बर्खास्त |                इंदौर : कांग्रेस नेता मनोज सुले ने अपने कोल्ड स्टोरेज में फांसी लगाकर की अत्महत्या |                रतलाम : गला दबाकर पत्नी की हत्या कर आत्महत्या दिखाने के लिए मुंह में डाला जहर |                आलीराजपुर : शादी में जा रहे 2 भाइयों की ट्रक की चपेट में आने से मौत |                राजगढ़ : जंगल में पेड़ पर लटका मिला 72 दिन से गायब युवक का कंकाल |                झाबुआ : साड़ी के फंदे में फर्श पर मिला युवक का शव, हत्या की आशंका |                  
असभ्यता की पराकाष्ठा... गवर्मेन्ट प्रेस में उपनियंत्रक टांगे चौड़ी करके बैठते है

भोपाल (सैफुद्दीन सैफ़ी)

 

हर शासकीय कार्यलयों में कर्मचारियों और अधिकारियों से सभ्यता पूर्वक कार्यलय में बैठने और जनता के साथ मर्यदित आचरण की अपेक्षा की जाती है। प्रदेश में मुख्यमंत्री भी आप जनता से सरकारी अधिकारियों के के सभ्य आचरण करने के लिए समय समय पर निर्देश देते रहते है। इस सबके बावजूद लगता है, गवर्मेन्ट प्रेस में पदस्थ अधिकारियों ने शायद खुद को ही गवर्मेन्ट समझ लिया है? इसलिए न तो इनको बात करने की तमीज़ है, और न ही कुर्सी पर कैसे बैठा जाता है इसका आभास?

गौर तलब है गवर्मेन्ट प्रेस में उप नियंत्रक के पद पर पदस्थ लॉरेंस रोबर्टसन्स जो कि लोक सूचना अधिकारी का भी काम देखते है जिनको सूचना के अधिकार के तहत आवेदक दुआरा मांगी गई जानकारी को एक निश्चित समय सीमा में प्रदान करनी होती है मगर ये लॉरेंस  रोबर्टसन्स अपने को लॉट    साहब से कम  नही समझते इन्हें न तो सूचना के अधिकार के नियमो का ज्ञान है न ही उसकी गंभीरता समझते है ।दूसरी इनकी खूबी ये है कि ये कुर्सी पर टांगे चौड़ी करके बैठने में अपनी शान समझते है। एक जानकारी के अनुसार अपनी पारिवारिक मुकदमे बाजी से ये इतने कुंठित और त्रस्त रहते है, कि इनके चेम्बर में आने वाले आगंतुक से इनको कैसा बर्ताव करना चाहिए इसका इनको जरा भी आभास नही इनके बैठने का तरीका इतना असभ्यता पूर्ण है जबकि इनके ही चेंबर के बाहर एक महिला चपरासी इनकी घंटी सुनने के लिए बैठती है कल्पना कीजिए कि जब वो इनके चेम्बर में जाती होगी तब उसको कितना असहज फील होता होगा ?

आशा की जाती है कि खबर के बाद गवर्मेन्ट प्रेस के नियंत्रक चंद्रशेखर विलियम अपने अधीनस्थ अधिकारियों को तहज़ीब और तमीज़ के कुछ दिशा निर्देश जारी करेंगे?

Advertisment
 
प्रधान संपादक समाचार संपादक
सैफु द्घीन सैफी डॉ मीनू पाण्ड्य
Copyright © 2016-17 LOKJUNG.com              Service and private policy              Email : lokjung.saify@gmail.com