ब्रेकिंग न्यूज़ सिरोंज : नाबालिग का अपहरण कर बिना पंडित के ही मंदिर में लिए फेरे केस दर्ज |                मंदसौर : नशे में धुत शिक्षक ने स्कूल में किया हंगामा मामला दर्ज |                बड़वानी : अनियंत्रित होकर नदी की पुलिया पर लटकी बस, यात्री सुरक्षित |                भिंड : युवक की पीट पीटकर हत्या, चचेरे भाई गंभीर परिजनों ने किया चक्काजाम |                ग्वालियर : बीएसएफ प्रशिक्षक शहाना पर साथी के अपहरण की एफआईआर |                ग्वालियर : बीएसएफ प्रशिक्षक शहाना पर साथी के अपहरण की एफआईआर |                सागर : मेहर गाँव में उल्टी दस्त के मरीज बढ़े एक की मौत |                  
संक्रमित रोग लंपी वायरस ने ली भोपाल के 8 गोवंश की जान |

भोपाल : 09/09/2023 :( नुजहत सुल्तान )  राजधानी में लंपी वायरस ने अपने पैर पसार लिए हैं, भोपाल में फैले लंपी वायरस ने अब तक पहली बार 8 गोवंश को मौत की नींद सुलाया है | पिछले साल यहां एक ही गाय की जान लंपी से गई थी | दरअसल, इस सीजन में लंपी वायरस से पीड़ित पहला गोवंश 20 अगस्त को मिला था | तीसरे दिन ही इसकी मौत हो गई थी, इसके बाद से लंपी संक्रमण से होने वाली मौतों का सिलसिला जारी है | एक दिन में सबसे ज़्यादा 4 मौतें गुरुवार को हुई हैं | इससे पहले चार सितंबर को एक और 29 अगस्त को भी एक मौत हो चुकी है | पिछले साल राजस्थान में 70 हज़ार से अधिक गोवंश की मौत लंपी वायरस से हुई थी | इस साल भोपाल में भी लंपी वायरस से पीड़ित गोवंश अधिक मिल रहे हैं | जहांगीराबाद स्थित पशु आश्रय स्थल आसरों में ही अब तक 39 गोवंश आ चुके हैं | 8 की मौत के बाद यहां 31 तो अब भी हैं | इनमें से भी चार की हालत तो बहुत गंभीर है | वहीं, पशु मालिकों के पास भी 30 से ज़्यादा गोवंश में लंपी के लक्षण सामने आए हैं | इनका भी इलाज किया जा रहा है | राजस्थान में लंपी से दूध देने वाली गाय की मौत होने पर 40 हज़ार रु. मुआवजे का प्रावधान है | एक पशु मालिक को अधिकतम दो दुधारू गाय के लिए मुआवजा मिलता है | वहां सरकार ने 52 हज़ार से अधिक पशु मालिकों को 175 करोड़ रु. मुआवजा बांटा है | वहीं भोपाल में लक्षण के आधार पर पॉज़िटिव मान रहे हैं | ऐसे में अगर आने वाले दिनों में बीमारी ने महामारी का रूप लिया तो बिना जांच करने वाले गोवंश को लंपी संक्रमित कैसे माना जाएगा

 

Advertisment
 
प्रधान संपादक समाचार संपादक
सैफु द्घीन सैफी डॉ मीनू पाण्ड्य
Copyright © 2016-17 LOKJUNG.com              Service and private policy              Email : lokjung.saify@gmail.com