ब्रेकिंग न्यूज़ मुंबई : सलमान खान के घर फायरिंग के आरोप में गिरफ्तार आरोपी हिरासत में फंदे पर लटका मौत |                खंडवा : मार्कशीट में जन्मतिथि देखकर प्रेम विवाह करने वाली लड़की निकली नाबालिग प्रेमी गिरफ्तार |                 दतिया : डायनामाइट में पत्थर मारते ही विस्फोट, दो युवकों की मौत |                इंदौर : फर्जी बिल कांड में तीन कर्मचारी बर्खास्त |                इंदौर : कांग्रेस नेता मनोज सुले ने अपने कोल्ड स्टोरेज में फांसी लगाकर की अत्महत्या |                रतलाम : गला दबाकर पत्नी की हत्या कर आत्महत्या दिखाने के लिए मुंह में डाला जहर |                आलीराजपुर : शादी में जा रहे 2 भाइयों की ट्रक की चपेट में आने से मौत |                राजगढ़ : जंगल में पेड़ पर लटका मिला 72 दिन से गायब युवक का कंकाल |                झाबुआ : साड़ी के फंदे में फर्श पर मिला युवक का शव, हत्या की आशंका |                  
सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि कोई भी सांसद या विधायक रिश्वत लेकर सदन में भाषण या वोट देगा वह अपराधी माना जाएगा |

नई दिल्ली : 05/03/2024 : सुप्रीम कोर्ट ने सांसदो – विधायकों के सदन में भ्रष्टाचार पर मिले विशेषाधिकार का कवच तोड़ दिया है, सीजेआई की अध्यक्षता वाली 7 सदस्यीय संविधान पीठ ने ऐतिहासिक फैसले में कहा यदि कोई सांसद या विधायक रिश्वत लेकर सदन में भाषण या वोट देता है तो उसके खिलाफ कोर्ट में क्रमिनल केस चल सकेगा | रिश्वत लेना संसद या विधानसभाओं के विशेषाधिकार के दायरे में नहीं आता | सीजेआई डीवाई चंद्रचूड की अध्यक्षता वाली पीठ ने इसी विशेषाधिकार को लेकर 1998 में दिए फैसले को भी पलट दिया | उन्होने कहा कि 5 सदस्यीय संविधान पीठ का वो फ़ैसला अनुच्छेद 105 व 194 का भी विरोधाभासी है | इन अनुच्छेद के सहारे सांसद विधायक सदन में कही किसी बात या वोट के लिए कोर्ट में जवाबदेह नहीं बनाए जा सकते हैं | लेकिन इससे उन्हें रिश्वतख़ोरी की छूट नहीं मिलती | विशेषाधिकार के मामले में एक रोचक बात यह है कि 1998 के मामले में झामुमो प्रमुख शिबू सोरेन मुख्य आरोपी थे | तब संविधान पीठ के फैसले के बाद वे कानूनी कार्रवाई से बच गए थे | जबकि 26 साल बाद उनकी बहू सीता सोरेन रिश्वत के वैसे ही मामले में घिर गईं हैं | कानूनी कार्रवाई से बचने का उनका विशेषाधिकार पीठ ने खत्म कर दिया है | सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले के बाद उनके खिलाफ सीबीआई जांच फिर शुरू हो सकती है |

Advertisment
 
प्रधान संपादक समाचार संपादक
सैफु द्घीन सैफी डॉ मीनू पाण्ड्य
Copyright © 2016-17 LOKJUNG.com              Service and private policy              Email : lokjung.saify@gmail.com