ब्रेकिंग न्यूज़ सिरोंज : नाबालिग का अपहरण कर बिना पंडित के ही मंदिर में लिए फेरे केस दर्ज |                मंदसौर : नशे में धुत शिक्षक ने स्कूल में किया हंगामा मामला दर्ज |                बड़वानी : अनियंत्रित होकर नदी की पुलिया पर लटकी बस, यात्री सुरक्षित |                भिंड : युवक की पीट पीटकर हत्या, चचेरे भाई गंभीर परिजनों ने किया चक्काजाम |                ग्वालियर : बीएसएफ प्रशिक्षक शहाना पर साथी के अपहरण की एफआईआर |                ग्वालियर : बीएसएफ प्रशिक्षक शहाना पर साथी के अपहरण की एफआईआर |                सागर : मेहर गाँव में उल्टी दस्त के मरीज बढ़े एक की मौत |                  
सीहोर के गर्ल्स स्कूल में एम्स ने लगाया जांच शिविर 458 बच्चियों की सिक़ल सेल की जांच में 2 बीमार, 62 में मिले लक्षण |

भोपाल : 02/05/2024 : एम्स भोपाल ने सीहोर के एक गर्ल्स स्कूल में विशेष जांच शिविर का आयोजान किया, जिसमें बताया गया कि हर व्यक्ति के खून में आरबीसी (लाल रक्त कोशिकाएं) पाई जाती हैं | जो गोल, लचीली और नर्म होती हैं | सिक़ल सेल बीमारी से पीड़ित होने पर इनका आकार अंग्रेजी के सी अक्षर जैसा हो जाता है | जिससे यह धमनियों में खून के फ़्लो को बाधित करती है जिससे लाल रक्त कोशिकाएं कम होने लगती हैं | समस्या बढ़ने पर शरीर के अंग को पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीज़न नहीं मिलती जिससे उनकी कार्यक्षमता प्रभावित हो जाती है | इसी बीमारी को लेकर स्कूल में काउंसलिंग सेशन आयोजित किया गया | साथ ही 458 छात्राओं की सिक़ल सेल की जांच की गई जिसमें 2 छात्राओं में यह बीमरी पाई गई और 62 में इसके जींस मिले हैं | विशेषज्ञों के अनुसार यदि किसी बच्चे के माता-पिता में यह बीमारी होती है तो उनमें इस बीमारी होने की आशंका अधिक होती है | ऐसे में काउंसलिंग के ज़रिए छात्राओं के माता-पिता को बताया गया कि अगर उनकी शादी किसी ऐसे लड़के से की जाएगी जिसे सिक़ल सेल के जीन है तो बच्चे इस बीमारी से ग्रसित पैदा होंगे | इस बीमारी के लक्षण और इससे निपटने के उपाय भी बताए गए | सिक़ल सेल के लक्षण हैं खून की कमी, फेफड़े, दिल, आंखो, हड्डियों और मस्तिष्क पर प्रभाव, शरीर का पूरा विकास न होना, छाती में इन्फेक्शन, जोड़ों में दर्द, बुखार आना | इससे बचाव के लिए रोजाना फॉलिक एसिड की गोली लें, मादक पदार्थों से बचें, संतुलित आहार लें, उल्टी दस्त लगने पर डॉक्टर से संपर्क करें, हर 3 महीने में हीमोग्लोबिन और श्वेत रक्त कोशिकाओं की संख्या की जांच करवाए | एम्स के निदेशक डॉ. अजय सिंह के अनुसार एम्स लगातार आयोजन करता रहेगा, जिससे दूर दराज के इलाकों और ग्रामीण क्षेत्रों में बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं पहुंचाने व लोगों को जागरूक कर बीमारी की रोकथाम की जा सके |

 

Advertisment
 
प्रधान संपादक समाचार संपादक
सैफु द्घीन सैफी डॉ मीनू पाण्ड्य
Copyright © 2016-17 LOKJUNG.com              Service and private policy              Email : lokjung.saify@gmail.com