ब्रेकिंग न्यूज़ सिरोंज : नाबालिग का अपहरण कर बिना पंडित के ही मंदिर में लिए फेरे केस दर्ज |                मंदसौर : नशे में धुत शिक्षक ने स्कूल में किया हंगामा मामला दर्ज |                बड़वानी : अनियंत्रित होकर नदी की पुलिया पर लटकी बस, यात्री सुरक्षित |                भिंड : युवक की पीट पीटकर हत्या, चचेरे भाई गंभीर परिजनों ने किया चक्काजाम |                ग्वालियर : बीएसएफ प्रशिक्षक शहाना पर साथी के अपहरण की एफआईआर |                ग्वालियर : बीएसएफ प्रशिक्षक शहाना पर साथी के अपहरण की एफआईआर |                सागर : मेहर गाँव में उल्टी दस्त के मरीज बढ़े एक की मौत |                  
बाज़ारों में मिलने वाली एनर्जी ड्रिंक में कैफीन की अधिक मात्रा बच्चों के लिए हानिकारक बच्चे हो रहे नशे के आदि |

भोपाल : 06/07/2024 :( सैफुद्दीन सैफी) बाज़ारों में मिलने वाले कुछ एनर्जी ड्रिंक्स का सेवन बच्चों के लिए किस कदर खतरनाक साबित हो सकता है आप सोच भी नहीं सकते लेकिन फिर भी बाज़ारों में ये ड्रिंक्स आसानी से मिल जाते हैं मतलब बच्चों के भविष्य के साथ खुलेआम खिलवाड़ किया जा रहा है, लेकिन इन ड्रिंक्स पर कोई रोक नहीं लगाई जा रही | दरअसल ऐसे ड्रिंक्स में कैफीन की अधिक मात्रा होने के कारण ये बच्चों और गर्भवती महिलाओं के लिए हानिकारक हैं | इसलिए इन ड्रिंक्स की बोतल पर लिखा रहता है कि बच्चों और गर्भवती महिलाओं के लिए निषेध | लेकिन एनर्जी के चक्कर में बच्चे जाने अनजाने में नशे के आदि बन रहे हैं | इन ड्रिंक्स में कैफीन नामक नशीले पदार्थ की अधिक मात्रा होती है, जो शरीर में कुछ देर के लिए उत्तेजना पैदा करती है लेकिन कैफीन ऐसा नशा है जो बाद में छोड़ना कठिन हो जाता है | ऐसे ड्रिंक्स आसानी से गली मोहल्लों की छोटी बड़ी दुकानों पर उपलब्ध भी हैं क्योंकि, इनका सबसे बड़ा ब्रांड मात्र 20 रु. में मिल जाता है | इन एनर्जी ड्रिंक्स को लेकर छात्रों में भी धारणा बन गई है, इसके पीने से नींद नहीं आती इसलिए छात्र पढ़ाई के दौरान इसका अधिक उपयोग कर रहे हैं | एक प्राइवेट स्कूल में पढ़ने वाले छात्र ने बताया कि परीक्षा के समय वो एक दिन में दो से तीन बोतलें पी जाता था, इससे शरीर में स्फूर्ति महसूस होती है | इसके अलावा रात में वाहन चलाने वाले ड्राइवर भी इस ड्रिंक्स का अधिक उपयोग करते हैं | ताकि गाड़ी चलाते समय नींद न आए लेकिन ये नहीं जानते कि इस ड्रिंक्स के उपयोग से किस तरह उनकी ज़िंदगी खतरे में पड़ती जा रही है |

 

Advertisment
 
प्रधान संपादक समाचार संपादक
सैफु द्घीन सैफी डॉ मीनू पाण्ड्य
Copyright © 2016-17 LOKJUNG.com              Service and private policy              Email : lokjung.saify@gmail.com